जागरण संवाददाता, आगरा: दुनिया को 'बीट प्लास्टिक पोल्यूशन' का संदेश देने वाले ताज पर सोमवार को 'स्वच्छ भारत, स्वच्छ पर्यटन' का संदेशा गूंजा। पर्यटकों, दुकानदारों, टैक्सी ड्राइवर्स आदि को स्मारकों को साफ रखने के लिए जागरूक किया गया। उन्हें निर्धारित स्थल पर ही कूड़ा-कचरा डालने को प्रेरित किया गया।

ताज के साये में दशहरा घाट पर तीन जून को यूनाइटेड नेशंस इन्वायरमेंट प्रोग्राम का स्वच्छ पर्यावरण कार्यक्रम हुआ था। इसमें ताज को प्लास्टिक, पॉलीथिन व गंदगी मुक्त बनाने की घोषणा की गई थी। केंद्रीय संस्कृति मंत्री डॉ. महेश शर्मा ने 100 आदर्श स्मारकों के 500 मीटर की परिधि को प्लास्टिक फ्री जोन बनाने की घोषणा की थी। ताज को प्लास्टिक मुक्त बनाने की दिशा में कवायद चल रही है। इसी कड़ी में सोमवार सुबह भारत पर्यटन, भारतीय यात्रा एवं पर्यटन संस्थान ग्वालियर (आइआइटीटीएम) व एप्रूव्ड गाइड एसोसिएशन (एजीए) द्वारा ताज के पूर्वी व पश्चिमी गेट और शिल्पग्राम पर स्वच्छता के लिए जागरूकता कार्यक्रम किया गया। इसमें न कचरा फेंकूंगा न फेंकने दूंगा की शपथ दिलाई गई। लोगों को इसका संदेशा देते ट्रैश बैग व कैप बांटी गई।

आइआइटीटीएम के निदेशक डॉ. संदीप कुलश्रेष्ठ ने बताया कि स्वच्छ भारत, स्वच्छ पर्यटन का संदेश देने को देशभर में स्मारकों पर कार्यक्रम किए जा रहे हैं। इसमें प्लास्टिक व पॉलीथिन का प्रयोग नहीं करने, क्लीन इंडिया ग्रीन इंडिया का संदेश दिया जा रहा है। इस दौरान प्रो. चंद्रशेखर बरुआ, डॉ. बीआरए विवि के पर्यटन एवं होटल प्रबंधन संस्थान के निदेशक डॉ. लवकुश मिश्रा, एजीए के अध्यक्ष संजय शर्मा, कामिल हुसैन, मेहरान उद्दीन, मोईन खान, मुकेश अग्रवाल, प्रशांत जैन, वीरेंद्र गुप्ता आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप