आगरा, जागरण संवाददाता। प्रदेश सरकार अवैध पार्किंग पर अंकुश लगाने के लिए हर प्रयास कर रही है। पार्किंग माफिया पर कार्रवाई के आदेश दिए गए। रोड और फुटपाथ पर वाहन न खड़े हों, इसके लिए अफसरों की जवाबदेही तक तय की गई, लेकिन अवैध पार्किंग से होने वाली कमाई के चलते सरकारी सिस्टम पूरी तरह से लाचार हो गया है। आखिर अवैध पार्किंग के लाखों रुपये किसकी जेब में जा रहे हैं। शहरी क्षेत्र में 500 अवैध पार्किंग चल रही हैं। हर साल लाखों रुपये का राजस्व का नुकसान हो रहा है लेकिन इसके बाद भी जिस तरीके से कार्रवाई होनी चाहिए, वह नहीं हो रही है।

इन क्षेत्रों में सबसे अधिक अवैध पार्किंग

फतेहाबाद रोड, एमजी रोड, शाहदरा से रामबाग रोड, एत्माद्दौला रोड, सिकंदरा से बोदला रोड, चर्च रोड, वजीरापुरा रोड, सूरसदन से पालीवाल पार्क रोड, शाहगंज, लोहामंडी, कमला नगर रोड, दिल्ली गेट रोड, अर्जुन नगर रोड, भगवान टाकीज चौराहा फ्लाईओवर के नीचे, रामबाग और वाटरवर्क्स चौराहा फ्लाईओवर के नीचे, अशोक नगर, जयपुर हाउस, हसनपुरा रोड।

यह विभाग हैं जिम्मेदार

नगर निगम: रोड और फुटपाथ पर वाहन खड़े न हों, निगम प्रशासन द्वारा इसे लेकर ठोस कदम उठाया जाना चाहिए। रोस्टर बनाकर अतिक्रमण विरोधी अभियान चलाया जाना चाहिए लेकिन निगम प्रशासन इस कार्य में पूरी तरह से फेल है। अभियान के नाम पर रस्म अदायगी की जाती है। इस बात का फायदा पार्किंग माफिया उठा रहे हैं। धड़ल्ले से अवैध पार्किंग संचालित की जा रही हैं।

ट्रैफिक पुलिस: रोड के किनारे गलत तरीके से पार्क किए गए वाहन स्वामियों पर कार्रवाई होनी चाहिए। गलत तरीके से वाहन खड़े होने से अक्सर जाम की समस्या पैदा हो जाती है। ट्रैफिक पुलिस के अफसरों द्वारा अपनी जिम्मेदारी का ठीक से निर्वहन नहीं किया जा रहा है। रोड और फुटपाथ के किनारे वाहन खड़े होने के बाद भी जुर्माना नहीं लगाया जा रहा है।

एडीए: जयपुर हाउस हो या फिर ताजगंज, बाग फरजाना, घटिया आजम खां, अशोक नगर, शाहगंज, लोहामंडी, फतेहाबाद रोड, कमलानगर सहित अन्य क्षेत्र, इन क्षेत्रों में अधिकांश पार्किंग स्थल खत्म हो गए हैं। भवन स्वामी चंद पैसों की खातिर पार्किंग को अन्य कार्यों में प्रयोग कर रहे हैं। यहां तक कि नोटिस देने के बाद आगे की कार्रवाई नहीं की जा रही है।

आवास विकास परिषद: कमला नगर और आवास विकास कालोनी सेक्टर एक से 16 तक व्यावसायिक भवनों की पार्किंग को खत्म किया जा रह है। इसके चलते रोड और फुटपाथ पर वाहन खड़े होते हैं। इससे पार्किंग माफिया सक्रिय हो जाते हैं।

एनएचएआइ: भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) आगरा और मथुरा खंड के अफसरों की हीलाहवाली के चलते रामबाग, वाटरवर्क्स, भगवान टाकीज, खंदारी फ्लाईओवर के नीचे अवैध पार्किंग हो रही हैं। दो और चार पहिया वाहन चालकों से पैसे वसूले जाते हैं लेकिन एनएचएआइ अफसरों द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है।

यह है शासन का आदेश

शासन ने अवैध पार्किंग को पूरी तरह से खत्म करने के आदेश दिए हैं। नगरायुक्त या फिर सभी नगर पंचायतों और नगर पालिका परिषदों के अधिशासी अधिकारियों को शपथ पत्र दाखिल करना होगा।

30 पार्किंग के अनुबंध किए निरस्त

नगर आयुक्त निखिल टीकाराम ने बताया कि नगर निगम की तीस पार्किंग के अनुबंध को निरस्त किया जा चुका है। अवैध पार्किंग के खिलाफ अभियान जारी है। साथ ही नए पार्किंग स्थलों की भी तलाश की जा रही है।

पुलिसकर्मियों पर करेंगे कार्रवाई

एसएसपी मुनिराज जी. ने बताया कि अवैध पार्किंग को लेकर नगर आयुक्त से बातचीत होगी। यदि कहीं पर पुलिसकर्मियों की भूमिका संदिग्ध है तो नगर आयुक्त या उनकी टीम अवगत कराए, निश्चित रुप से कार्रवाई होगी।

Edited By: Nirlosh Kumar