आगरा, जेएनएन। नवरात्र समापन के बाद माता के दरबार में माथा टेकने जा रहे श्रद्धालुओं के साथ मंगलवार-बुधवार देर रात हादसा हुआ है। सड़क पर घूम रहे बेसहारा जानवर को बचाने के चक्कर में अनियंत्रित होकर कैंटर खाई में जाकर पलट गया। इससे कैंटर में सवार करीब 50 लोग घायल हुए हैं। इनमें 14 लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं। घायलों में महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं।

आगरा के शमसाबाद के पास गांव धिमश्री में देवी की स्थापना की गई थी। पूरे नौ दिन यहां भजन-कीर्तन चला। नवरात्र समापन के बाद गांव के लोग मंगलवार रात करीब 12 बजे कैंटर में बैठकर कैलादेवी दर्शन के लिए निकले। रास्ते में माता के गीत गाते और जयकारे लगाते जा रहे श्रद्धालुओं का कैंटर रात करीब 2.30 बजे धौलपुर से आगे बढ़ा। सरमथुरा के पास पहाड़ी रास्ते में सड़क पर अचानक बेसहारा जानवर के आने से ड्राइवर ने उसे बचाने के प्रयास में ब्रेक लगाए लेकिन कैंटर अनियंत्रित हो गया। सड़क किनारे खाई में कैंटर के गिरने से उसमें बैठे लोगों में चीख-पुकार मच गई। लोग दर्द से बुरी तरह कराह रहे थे। इधर दुर्घटना और इसके बाद चीख-पुकार सुनकर आसपास के ग्रामीण मदद को मौके पर पहुंच गए।

ग्रामीणों ने घायलों को एक-एक कर बाहर निकाला। गंभीर रूप से घायलों को सरमथुरा के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं कई लोग राजस्थान के धौलपुर में राजकीय अस्पताल में भर्ती कराए गए हैं। ड्राइवर सुरक्षित है। ग्रामीण मददगार की भूमिका में हैं और लोगों को अस्पताल पहुंचा रहे हैं। कुछ गंभीर रूप से घायल लोगों को आगरा भी लाए जाने की सूचना है।

अभी तक मिली जानकारी के अनुसार ये लोग हैं घायल-

1. बबलू पुत्र कैलाशी उम्र 32 वर्ष

2. गोपाल पुत्र कलुआ 29 वर्ष

3. भोलू पुत्र लालजीत उम्र 25 वर्ष

4. निहाल सिंह पुत्र कलुआ उम्र 24 वर्ष

5. किशन सिंह पुत्र खचेर सिंह उम्र 40 वर्ष

6. दीपक पुत्र राज कुमार उम्र 16 वर्ष

7. छोटू पुत्र सीताराम उम्र 22 वर्ष

8. शिवानी पुत्री श्यामवीर उम्र 14 वर्ष

9. मीना पत्नी बबलू 28 वर्ष

10. रामवती पत्नी लालजीत उम्र 55 वर्ष

11. कमलेश पत्नी निहाल सिंह उम्र 45 वर्ष

12. मीना पत्नी कलुआ उम्र 50 वर्ष

13. रूबी पुत्री बबलू उम्र 8 वर्ष

14. नरेश पुत्र समलिया उम्र 38 वर्ष

 

Posted By: Prateek Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस