आगरा, जागरण संवाददाता। पहली के बाद दूसरी और अब तीसरी लहर की संभावना। कोरोना वायरस के डर ने लोगों की पूरी दिनचर्या को बदल कर रख दिया है। चाहे गर्मी हो या सर्दी या फिर ये मानसून, हर मौसम में कोरोना से बचाव को लेकर ही अधिकांश डायट प्लान को लोग फॉलो कर रहे हैं। अब जबकि मौसम फिर बदल रहा है और मौसम के इस बदलाव को देखते हुए शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय भी बदल देने चाहिए। आयुर्वेदाचार्य डॉ कविता गोयल के अनुसार बारिश के दिनों में महज पांच चीजों को अपने दैनिक जीवन में शामिल करके इम्‍युनिटी पावर को बूस्‍ट किया जा सकता है।

ये करें पांच बदलाव

- लेमन ग्रास औषधीय पौधा है। इस पौधे का तेल इम्यून सिस्टम के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। वायरल फीवर (मौसमी बुखार) और खांसी, सर्दी, जुकाम में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। पेट, आतों और यूरीनरी ट्रैक्ट में इंफेक्शन से यह तुरंत राहत दिलाता है।

- इम्यून को बूस्ट करने में अदरक भी किसी चमत्कारी औषधि से कम नहीं है। इसमें मौजूद एंटी माइक्रोबियल और एंटी फंगल तत्व बॉडी के इम्यून सिस्टम के लिए बेहतरीन है। आप सब्जियों के अलावा जूस, सूप और चटनी में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

- हल्दी में एंटी आक्सिडेंट गुण इम्यून को दुरुस्त रखने में कारगर है। एक चम्मच काली मिर्च का चूर्ण, एक छोटी चम्मच हल्दी का चूर्ण और एक चम्मच सौंठ यानी अदरक के पाउडर को एक कप पानी में डालकर गर्म कर लें।जब यह पानी उबलने के बाद आधा रह जाए तो इसे ठंडा करके पिएं।

- तुलसी में एंटीबॉयोटिक गुण होते हैं जो इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग कर शरीर को वायरस से लड़ने की ताकत देते हैं।एक चम्मच लौंग के चूर्ण और दस से पंद्रह तुलसी के ताजे पत्तों को एक लीटर पानी में डालकर इतना उबालें जब तक यह सूखकर आधा न रह जाए। इसके बाद इसे छानें और ठंडा करके हर एक घंटे में पिएं। आपको वायरल से जल्द ही आराम मिलेगा।

- धनिया सेहत का धनी होता है इसलिए यह वायरल बुखार जैसे कई रोगों को खत्म करता है। वायरल के बुखार को खत्म करने के लिए धनिया की चाय बहुत ही असरदार औषधि का काम करती है। मानसून के मौसम में इसकी चाय आपको रोज सुबह शाम पीनी चाहिए।  

Edited By: Tanu Gupta