आगरा, जागरण संवाददाता। सरकारें हिलाने वाली प्याज एक बार फिर सुर्ख रुख अपनाने लगी है। थोक में दाम बढ़े जा रहे हैं, तो फुटकर तक पहुंचते-पहुंचते दाम आंसू निकाल रहे हैं। घरों में गाजर, टमाटर का सलाद बन रहा है, तो होटल, रेस्टोरेंट के सलाद से प्याज हटा दी गई है। थोक में प्याज 22 से 28 रुपये प्रति किलोग्राम बनी हुई है, तो फुटकर बजार में मनमानी है। ठेल वाले 50 से 55 रुपये तक वसूल रहे हैं।

गत वर्ष अक्टूबर में प्याज के दाम आसमान छू रहे थे। थोक में भाव 30 रुपये प्रति किलोग्राम था, जबकि फुटकर में 80 से 90 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गए थे। इसके बाद मंडी परिषद ने स्टाल लगाकार 35 रुपये प्रति किलोग्राम फुटकर में प्याज बिकवाया था। नवंबर के अंतिम सप्ताह तक पहुंचते-पहुंचते भाव गिरे और थोक भाव 12 रुपये प्रति किलोग्राम हो गए थे। जनवरी तक भाव में थोड़ा उतार चढ़ाव होता रहा, लेकिन फरवरी में थोक भाव 18 रुपये प्रति किलोग्राम पहुंच गए थे। इसके बाद भी निरंतर इजाफा हो रहा है। थोक मंडी में प्याज के वर्तमान दाम 28 रुपये प्रति किलोग्राम तक है।

नासिक की प्याज का इंतजार

15 मार्च के बाद नासिक की प्याज की आवक शुरू हो जाएगी। नासिक में बंपर उत्पादन होता है और नई फसल पर भाव भी 10 से 12 रुपये प्रति किलोग्राम तक रहते हैं। थोक विक्रेता हसन ने बताया कि नासिक की आवक होने के बाद दाम आधे रह जाएंगे।

तीन से चार ट्रक प्रतिदिन होती है आवक

वर्तमान में मध्य प्रदेश और गुजरात से प्याज आ रही है। सिकंदरा मंडी में तीन से चार ट्रक प्याज की आवक होती है, जिससे जिले और आस-पास के 50 किलोमीटर तक आपूर्ति दी जाती है।

साउथ की फसल खराब हो गई थी, जिस कारण गत वर्ष सितंबर, अक्टूबर में तेजी से प्याज का दाम बढ़ा था। फरवरी के बाद से प्याज के दाम में फिर उछाल आया है। 15 दिन में नासिक की फसल आ जाएगी, उसके बाद दामों में गिरावट आएगी।

कफीलउद्दीन, थोक विक्रेता

प्याज के थोक दाम बढ़े हुए हैं, लेकिन फुटकर में ज्यादा मनमानी की जा रही है। 22 से 24 रुपये प्रति किलोग्राम की खरीद कर ठेल वाले 50 से 55 रुपये तक प्याज बेच रहे हैं। नई आवक होते ही जल्द ही भाव घट जाएंगे।

कासिम, थोक विक्रेता 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021