आगरा, जागरण संवाददाता। अपना उत्तर प्रदेश 71 बरस का हो गया। इस बीच काफी बदलाव आया है। विकास कार्यों ने प्रदेश की तस्वीर ही बदल दी है। इसमें अपना आगरा भी पीछे नहीं है। कभी घोड़ा गाड़ी की सवारी करने वाले इस शहर के लोग अब मेट्रो ट्रेन में बैठने की तैयारी कर रहे हैं। सामान्य शहर से स्मार्ट सिटी बनने की ओर तेजी से कदम बढ़ रहे हैं। ऐसे तमाम विकास कार्य हो रहे हैं, जो शहर को नई पहचान देंगे। जहां लोगों की सुविधा और सुरक्षा के बंदोबस्त होंगे।

अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि ताजनगरी में 13 हजार करोड़ रुपये से अधिक लागत की विकास याेजनाएं संचालित हैं। इनमें से 8379.62 करोड़ रुपये की आगरा मेट्रो रेल परियोजना ही है। बीते दिसंबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्चुअल माध्यम से इस योजना का शिलान्यास किया। इसके साथ ही स्मार्ट सिटी योजना के तहत लगभग 284 करोड़ रुपये की लागत से कमांड एंड कंट्रोल रूम बनकर तैयार है। इसका ट्रायल चल रहा है। इसके अतिरिक्त 4942.4811 करोड़ की लागत की 15 विभागों की योजनाएं भी संचालित हैं। इसमें लोक निर्माण विभाग, ग्रामीण अभियंत्रण विभाग, सेतु निगम, सीएंडडीएस, जल निगम, आवास एवं विकास परिषद, राजकीय निर्माण निगम सूडा इकाई, आगरा विकास प्राधिकरण आदि विभागों की योजनाएं हैं। इसके अतिरिक्त 50 लाख रुपये से अधिक लागत वाली 10 योजनाएं हाल ही में पूरी हुई हैं। इसमें एत्मादपुर क्षेत्र में फ्लाईओवर निर्माण, एत्मादपुर क्षेत्र में ही पशु चिकित्सालय, 90 टीटीएसपी मरम्मत कार्य आदि कार्य थे। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप