आगरा, जागरण संवाददाता। उप्र माध्यमिक शिक्षा परिषद की सत्र 2021 हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा के लिए केंद्र निर्धारण नीति शासन ने जारी कर दी है। केंद्र बनने के लिए विद्यालय प्रधानाचार्यों को पांच दिसंबर तक सारी सूचनाएं आनलाइन अपलोड करनी होंगी, 20 दिसंबर तक जिला समिति भौतिक सत्यापन पूरा करेगी और 26 दिसंबर तक डीएम को रिपोर्ट सौपेंगी। 11 जनवरी को केंद्रों की पहली सूची जारी होगी, जबकि नौ फरवरी को अंतिम सूची जारी की जाएगी।

अपर मुख्य सचिव ने यूपी बोर्ड परीक्षा केंद्र निर्धारण के लिए पूरी कार्यनीति की घोषणा कर दी है। इसमें आवेदन से लेकर केंद्र निर्धारण तक की प्रक्रिया तक, आनलाइन संपन्न कराई जाएगी। नकल विहीन परीक्षा के उद्देश्य से मानकों का निरीक्षण जिला समिति करेगी और उनकी रिपोर्ट के आधार पर केंद्र बनाने का अंतिम फैसला जिलाधिकारी स्तर से लिया जाएगा।

यह है समय सारिणी

- पांच दिसंबर तक सभी प्रधानाचार्य विद्यालय की आधारभूत सूचनाएं, सुविधाएं परिषद की वेबसाइट पर अपलोड करेंगे, संशोधन करने की भी यही तारीख होगी।

- 20 दिसंबर तक सूचनाओं का भौतिक सत्यापन जिला समिति करेगी।

- 26 दिसंबर तक जिला समिति भौतिक सत्यापन की रिपोर्ट परिषद की वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी।

- 11 जनवरी तक सूचना और रिपोर्ट के आधार पर केंद्रों का आनलाइन चयन कर डीएल व जिला समिति के निरीक्षण के लिए वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी।

- 16 जनवरी तक चयनित केंद्रों पर आपत्तियां व शिकायतें प्राप्त की जाएगी।

- 25 जनवरी तक जिला विद्यालय निरीक्षक को आपत्तियों का परीक्षण व निस्तारण कर जानकारी वेबसाइट पर अपलोड करनी होगी।

- 31 जनवरी तक अपत्तियों व परीक्षण की रिपोर्ट की जांच डीएम व उनकी कमेटी करेगी और अपनी सहमति देगी।

- चार फरवरी तक छात्र, अभिभावक, प्रधानाचार्य, प्रबंधक के प्रत्यावेदन व आपत्तियों के निराकरण के बाद भी कोई आपत्ति हो, तो ली जाएगी।

- नौ फरवरी तक जिला समिति के अनुमोदन पर केंद्र निर्धारण समिति ई-मेल आइडी पर निर्धारित तिथि तक आपत्तियों का परीक्षण कर निराकरण कर अंतिम सूची वेबसाइट पर जारी कर देगी।

यह होगी जिला समिति

जिलाधिकारी (डीएम) अध्यक्ष, जिला विद्यालय निरीक्षक (डीआइओएस) सदस्य सचिव, बेसिक शिक्षाधिकारी सदस्य, जिस सब डिवीजन के केंद्रों का निर्धारण होना है, वहां के उप जिलाधिकारी (एसडीएम) सदस्य, जिले के दो वरिष्ठ प्रधानाचार्य (एक राजकीय एक ग्रामीण क्षेत्र से) सदस्य होंगे।

इनकी बनेगी भौतिक सत्यापन समिति

संबंधित एसडीएम अध्यक्ष, डीएम द्वारा नामित अभियंत्रण विभाग अभियंता (सहायक स्तर से नीचे नहीं) सदस्य, तहसीलदार सदस्य और डीआइओएस या उनके द्वारा नामित सहायक जिला विद्यालय निरीक्षक या राजकीय विद्यालय प्रधानाचार्य सदस्य सचिव होंगे। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021