आगरा, जागरण संवाददाता। लाकडाउन के बाद जिंदगी को पटरी पर लाने के लिए अनलाक प्रक्रिया में यातायात माध्यमों में जैसे-जैसे छूट प्रदान की गईं, वैसे-वैसे ताजनगरी में हवाई उड़ानें कम होती गईं। अनलाक के पहले महीने जून में जहां 30 फ्लाइटें आईं वहीं, सितंबर में इनकी संख्या शून्य रह गई। इससे पर्यटन को काफी झटका लगा है।

सितंबर में ही ताजमहल और अगारा किला खुला। लाकडाउन के चलते सभी क्षेत्रों से जुड़े लोगाें की अर्थ व्यवस्था चरमरा गई। पर्यटन नगरी भी इससे अछूती नहीं रही। यहां लोगों की जिंदगी को पटरी पर लाने के लिए अनलाक प्रक्रिया के साथ ही विभिन्न गतिविधियों में छूट प्रदान की गई। 21 सितंबर को विश्वदाय स्मारक और आगरा किला भी खोल दिया गया, जिससे कि लोगों होटल, एंपोरियम, रेस्टोरेंट, टूर एंड ट्रेवल, गाइड आदि ट्रेड के लोगों के काम-धंधे शुरू हो सकें। अधिक से अधिक यात्रियों का आवागमन हो, इसके लिए ट्रेनों और बसों की संख्या भी समय के साथ बढ़ाई गई। इतनी कवायद के बीच आगरा में हवाई उड़ानें कम होती गईं। जून-जुलाई में फ्लाइटों की संख्या ठीकठाक रही लेकिन अगस्त में यात्रियों की संख्या को देखते ही सिर्फ पूरे महीने में सिर्फ छह फ्लाइटें ही आईं। सितंबर में यह पूरी तरह से ठप रही। अक्टूबर में भी सिर्फ दो ही दिन आगरा- जयपुर फ्लाइट आई।

दीपावली जूम एयरवेज से उम्मीदें

दीपावली बाद जूम एयरवेज कुछ शहरों के लिए अपनी फ्लाइटें शुरू कर सकती है। एयरपोर्ट अथारिटी आफ इंडिया के अधिकारियों की मानें तो कंपनी ने भी अपने रूट उजागर नहीं किए हैं लेकिन एयरपोर्ट पर फ्लाइटों के लिए टाइम स्लाट जरूर मांगा है। इससे अनुमान लगाया जा रहा है कि दीपावली बाद कुछ रूटों पर जूम एयरवेज की फ्लाइटें शुरू हो सकती हैं।

इंडिगो मार्च से कर सकता है संचालन

इंडिगो एयरवेज द्वारा बीते मार्च में भोपाल, लखनऊ, इंदौर, बेंगलुरु सहित आठ शहरों के लिए फ्लाइटें शुरू करने की योजना थी। मगर, इसी बीच लाकडाउन हो गया तो सारी तैयारियां धरी रह गईं। एयरपोर्ट के अधिकारियों के अनुसार, अब मार्च 2021 में इंडिगो अपनी प्रस्तावित फ्लाइटों को शुरू कर सकता है।

फ्लाइट महीना वर्ष 

2020 में उड़ानें 

जून 30 52 जुलाई 24 22 अगस्त 6 62 सितंबर 0 68 महीना वर्ष 2020 में यात्री

वर्ष 2019 में उड़ानें

जून 206 954 जुलाई 116 550 अगस्त 59 1711 सितंबर 0

1831 यात्रियों की संख्या की वजह से फ्लाइटें अनियमित हुई हैं। हमारे यहां किसी भी कंपनी की फ्लाइटों का रात्रि ठहराव नहीं है। दीपावली बाद जूम और अगले मार्च में इंडिगो एयरवेज अपनी फ्लाइटें शुरू कर सकती हैं।

ए. अंसारी, निदेशक, विमानपत्तन, खेरिया हवाई अड्डा

फ्लाइटें यदि नियमित रहें तो यात्रियों की संख्या में इजाफा होगा। ताजनगरी के साथ यही दोहरा व्यवहार होता है। दो बार यात्री नहीं मिले तो फ्लाइट बंद कर दी जाती है। पर्यटकों को पता ही नहीं होता कि फ्लाइट कब शुरू हो गई और कब बंद हो गई। इससे पर्यटन पर प्रभाव पड़ता है।

राकेश चौहान, अध्यक्ष, होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021