आगरा, जागरण संवाददाता। सड़क गड्ढा मुक्ति अभियान को लेकर योगी सरकार भले ही कितने दावे कर रही लेकिन हकीकत में सड़कों के जख्म अभी मिटे नहीं हैं। लोग परेशान हैं। अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि एक सड़क के गड्ढे भरने के लिए क्षेत्रीय लोग 24 घंटे से धरने पर बैठे हैं फिर भी कोई सुनने वाला नहीं है। लोगों का रातभर धरना चला।

दयालबाग-जयराम बाग सड़क के गड्ढे भरने की मांग को लेकर क्षेत्रीय बीते शुक्रवार से धरने पर बैठ गए। गड्ढे के किनारे क्षेत्रीय लोगों ने डेरा डाल दिया है। अनिश्चतकालीन धरना रात में भी जारी रहा। दयालबाग-जयराम बाग की सड़क एक महीने में पांच बार धंस चुकी है। एक बार भी सड़क की मरम्मत नहीं की गई। इससे सड़क में गहरे-गहरे गड्ढे हैं। एक गड्ढे में मिट्टी भर दी गई है लेकिन इसकी मरम्मत नहीं की गई। बार-बार सड़क धंसने पर क्षेत्रीय लोगों का आक्रोश फूट गया था। उन्होंने पिछले दिनों नगर निगम और आगरा विकास प्राधिकरण पर प्रदर्शन भी किया लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। गड्ढे जस के तस हैं। समस्या के समाधान की मांग को लेकर चौधरी रामवीर सिंह और सौरभ चौधरी के नेतृत्व में लोग अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए हैं। लोग पूरी रात धरने पर बैठे रहे। फिर भी कोई सुनने नहीं आया। रात के अंधेरे में भी उनका धरना जारी रहा। स्ट्रीट लाइटें खराब होने के कारण लोग अंधेरे में ही धरने पर बैठे रहे। लोगों का कहना है कि जब तक सड़क नहीं बन जाती, तब तक उनका धरना जारी रहेगा। एक महीने से अधिक समय हो गया, अब तक गड्ढे भरने कोई नहीं आया। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस