वॉशिंगटन, एपी। दुनिया के पूर्व नंबर एक खिलाड़ी रोजर फेडरर और राफेल नडाल के बीच कोर्ट पर प्रतिद्वंद्विता जितनी कड़ी है, उससे कहीं अधिक ये दोनों कोर्ट के बाहर एक-दूसरे का सम्मान करते हैं। फेडरर ने पिछले साल कहा था कि मैंने अपनी आंखों के सामने उसे प्रगति करते हुए देखा है।

उन्होंने कहा था कि मुझे हमेशा लगता है कि टेनिस खिलाड़ियों में वह एक व्यक्ति हैं जिसे मैं अगर कुछ बताऊंगा तो यह हम दोनों के बीच गोपनीय रहेगा और मैं इस बात की सराहना करता हूं कि हम इस तरह का रिश्ता बना पाए। फेडरर और नडाल के बीच की प्रतिद्वंद्विता 1968 में शुरू हुए ओपन युग में पुरुष वर्ग की सर्वश्रेष्ठ प्रतिद्वंद्विताओं में से एक है। दोनों के बीच हुए 40 भिड़ंतों में से नडाल ने 24, जबकि फेडरर ने 16 जीते हैं। ग्रैंडस्लैम फाइनल में भी नडाल तीन के मुकाबले छह मैच जीतकर आगे हैं। जोकोविक हालांकि करियर आंकड़ों में इन दोनों पर भारी पड़ते हैं।

जोकोविक ने नडाल के खिलाफ 55 में से 29 मैचों में जीत दर्ज की, जबकि 26 में उन्हें हार का सामना करना पड़ा। ग्रैंडस्लैम मुकाबलों के फाइनल में दोनों ने समान चार जीत दर्ज की। फेडरर के खिलाफ भी जोकोविक 50 में से 27 मुकाबले जीतने में सफल रहे जबकि 23 में उन्हें हार झेलनी पड़ी। ग्रैंडस्लैम फाइनल में जोकोविक ने फेडरर पर दबदबा बनाते हुए पांच में से चार मुकाबले जीते जबकि एक में हार का सामना किया।

मेरे प्रतिद्वंद्वियों को मुझसे कम चोटें लगीं : नडाल

महान टेनिस खिलाड़ी राफेल नडाल ने कहा है कि कम चोटें उनके करियर को और विस्तार दे सकती थीं। उन्होंने कहा कि चोटें ही ऐसी चीजें जिन्हें लेकर वह अपने प्रतिद्वंद्वियों से जलते हैं। पिछले साल अपना चौथा यूएस ओपन और कुल 19वां ग्रैंडस्लैम जीतने वाले नडाल ने कहा कि वह अपने प्रतिद्वंद्वियों से सिर्फ इसलिए जलते हैं क्योंकि उन्हें कम चोटें आई हैं।

नडाल ने कहा, 'हां, कई बार ऐसा होता है। यह सही है कि मेरे प्रतिद्वंद्वियों को मुझसे कम चोटें लगी हैं।' उनसे जब पूछा गया कि क्या यह इसलिए है क्योंकि वह काफी ऊर्जा के साथ खेलते है जिसका असर उनके शरीर पर प़़डता है। उन्होंने कहा, 'मैं नहीं जानता, मुझे कई वषर्षो से कहा जा रहा है कि मैं जिस तरह से खेलता हूं तो उसके कारण मेरा करियर ज्यादा लंबा नहीं होगा, लेकिन मैं अभी भी खेल रहा हूं।' नडाल ने पिछले महीने कहा था कि जब तक स्थिति सुधर नहीं जाती है तब तक टेनिस की शुरूआत नहीं की जानी चाहिए।

Posted By: Viplove Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस