मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली, टेक डेस्क। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) ने यूजर्स को चैनल सिलेक्ट करने में परेशानी न हो, इसके लिए नया थर्ड पार्टी ऐप लाने की तैयारी में है। नए केबल टीवी और DTH नियम के लागू होने के बाद, यूजर्स से लगातार मिल रही शिकायतों के बाद प्राधिकरण ने थर्ड पार्टी ऐप डेवलप करने का निर्णय लिया है। प्राधिकरण केवल सर्विस के लिए नया चैनल सिलेक्शन सिस्टम डेवलप कर रहा है, इस थर्ड पार्टी ऐप से यूजर्स आसानी से चैनल्स सिलेक्ट कर सकेंगे। आपको बता दें कि इस साल फरवरी-मार्च में प्राधिकरण ने नया केबल टीवी और DTH नियम लागू किया है। इसके लिए मार्च 2017 से ही तैयारियां चल रही थी।

ट्राई के नए केबल टीवी और DTH नियम के मुताबिक, अब यूजर्स केवल उन्हीं चैनल्स के लिए ऑपरेटर्स को भुगतान करेंगे, जो वो देखना चाहते हैं। इस नए नियम के लागू होने के बाद केबल ऑपरेटर्स और DTH सर्विस प्रोवाइडर्स ने उपभोक्ताओं के लिए दो तरह के ऑप्शन रखे हैं। पहले ऑप्शन में सर्विस प्रोवाइडर्स ने अपना चैनल बुके पैकेज पेश किया है जिसमें यूजर्स अपनी पसंद के बुके को सिलेक्ट कर सकते हैं। इसमें यूजर्स को मैन्डेटरी फ्री चैनल्स के अलावा कई लोकप्रिय पेड चैनल्स भी मिलते हैं। वहीं, a-la-carte की तरह ही यूजर्स मैनुअली अपनी पसंद के चैनल्स सिलेक्ट कर सकते हैं।

इस नए नियम के लागू होने के बाद ऐसे कई यूजर्स हैं जिन्हें चैनल्स को सिलेक्ट करने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और वो अपनी पसंद के चैनल्स को सिलेक्ट नहीं कर पा रहे हैं। ऐसे में प्राधिकरण ने इन यूजर्स की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए नए थर्ड पार्टी ऐप को डेवलप करने का फैसला किया है। इस शुक्रवार को प्राधिकरण ने 2017 में पेश किए गए नए ब्रॉडकास्टिंग एंड केबल सर्विसेज में अमेंडमेंट करने का भी प्रस्ताव रखा है।

इस नए फ्रेमवर्क को इम्प्लीमेंट करने के लिए TRAI ने कई प्रयास किए हैं। प्राधिकरण ने DPO (डिस्ट्रीब्यूशन प्लेटफॉर्म ऑपरेटर्स), इलेक्ट्रॉनिक एंड न्यूज मीडिया और कंज्यूमर ग्रुप्स के साथ मीटिंग के बाद नए फ्रेमवर्क पर काम करने का फैसला किया है। प्राधिकरण के लगातार प्रयास के बावजूद कई यूजर्स को चैनल सिलेक्ट करने में परेशानी हो रही है। प्राधिकरण ने एक विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा कि कई यूजर्स को चैनल सिलेक्ट करने में दिक्कत हो रही है और वो अपनी पसंद के चैनल्स को नहीं देख पा रहे हैं।

हालांकि, प्राधिकरण ने सभी यूजर्स के शिकायतों को न सिर्फ एनालाइज किया बल्कि उसे DPO के पास भी भेजा। उपभोक्ताओं को हो रही इन परेशानी को दूर करने के लिए प्राधिकरण नए थर्ड पार्टी ऐप को डेवलप करेगा जो कि सभी उपभोक्ता एक्सेस कर सकेंगे। इस ऐप में चैनल सिलेक्ट करने से लेकर उसकी प्राइसिंग समेत सभी जानकारियां उपलब्ध होंगी। रेग्युलेशन के इस नए अमेंडमेंट को 22 अगस्त 2019 तक स्टेक होल्डर्स की टिप्पणी के लिए ओपन रखा गया है। इसके बाद इस नए अमेंडमेंट को लागू किया जा सकता है। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Harshit Harsh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप