नई दिल्ली, ब्रांड डेस्क पिछले कुछ वर्षों में, भारत के स्मार्ट नेटवर्क एयरटेल ने नेटवर्क समस्याओं के ग्राहकों को राहत देने और सस्ती कीमत पर सर्वश्रेष्ठ मोबाइल और इंटरनेट सेवा प्रदान करने के लिए नई तकनीक और नेटवर्क बुनियादी ढांचे में भारी निवेश किया है। मोबाइल सेक्टर में कई ऐसी सेवाएं और तकनीक हैं, जिन्हें एयरटेल ने पहली बार भारत में उपलब्ध कराया है। उनमें से, वाई-फाई कॉलिंग, ई-सिम सहित कई क्रांतिकारी बदलाव हैं जो भारत लाने वाला एकमात्र एयरटेल है। आइए कुछ ऐसी तकनीक और सेवाओं के बारे में बात करते हैं जो एयरटेल इंडिया की सबसे अच्छी और अग्रणी दूरसंचार कंपनी हैं।

वाई-फाई कॉलिंग

दुनिया के 70 से अधिक देशों में उपयोग की जाने वाली वाई-फाई कॉलिंग सेवा को लाने का श्रेय एयरटेल को जाता है। इसके तहत ग्राहकों को सेल्युलर नेटवर्क की तरह ही वाई-फाई के जरिए कॉल करने की सुविधा मिलती है, वह भी बिना किसी अतिरिक्त खर्च के। इस सेवा के माध्यम से नेटवर्क समस्या और कॉल ड्रॉप की समस्या अतीत की बात होगी। इस सेवा को वर्ष 2020 में दूरसंचार क्षेत्र में एक क्रांतिकारी बदलाव कहा जा रहा है।

4G के लिए इस्तेमाल किया गया 3G स्पेक्ट्रम

दिल्ली, कोलकाता, एयरटेल जैसे शहरों में लगातार नई तकनीक में निवेश ने अपने मौजूदा 3 जी स्पेक्ट्रम को अपग्रेड करना और 4 जी सेवाओं के लिए इसका उपयोग करना शुरू कर दिया है। यह कदम कंपनी को 4 जी नेटवर्क यूजर बेस बढ़ाने में मदद कर रहा है। साथ ही, कंपनी के मौजूदा 3 जी ग्राहकों को भी 4 जी नेटवर्क और VoLTE कॉलिंग का लाभ मिल रहा है।

4 जी + सेवा और पूर्व -5 जी

हालाँकि, भारत में अभी भी 5G सेवाओं की शुरुआत का समय है। लेकिन एयरटेल ने हमेशा की तरह एक कदम आगे रखते हुए अपनी तैयारी शुरू कर दी है। इसका एक बड़ा हिस्सा MIMO तकनीक है जिसका उपयोग कंपनी कर रही है। जिसकी मदद से कंपनी 4 जी ग्राहकों को बेहतर नेटवर्क कवरेज के साथ जबरदस्त डेटा स्पीड दे रही है। हालांकि यह स्पीड 5G से कम है लेकिन यह 4G नेटवर्क की स्पीड से बहुत ज्यादा है। इसीलिए इसे 4G + या Pre-5G कहा जा रहा है। इसे 5 जी सेवा के जमीनी कार्य के रूप में देखा जाता है।

ई सिम

आने वाले समय में IoT यानी इंटरनेट ऑफ थिंग्स के महत्व को समझते हुए, एयरटेल ने अभी से इस दिशा में काम करना शुरू कर दिया है। और यह ई-सिम का हिस्सा है। ई-सिम का मतलब है एक सिम जो फोन या गैजेट्स में इनबिल्ट होगी। यही है, यदि आप ऑपरेटर बदलते हैं तो आपको कार्ड को बार-बार बदलने की ज़रूरत नहीं है। केवल उसे फटकारना है। स्मार्टफोन, टैबलेट के साथ-साथ कार, फ्रिज, टीवी, एसी, स्मार्ट गैजेट्स, कंप्यूटर और टैबलेट जैसे कई उपकरणों में ई-सिम स्थापित किया जाएगा। उन्हें एक सेलुलर नेटवर्क से जोड़ने से आसान डेटा विनिमय और सेवा प्रसंस्करण में मदद मिलेगी। मशीन टू मशीन (एम 2 एम) कनेक्टिविटी के लिए एक डेटा मजबूत नेटवर्क की आवश्यकता होगी जो एयरटेल प्रदान कर सकता है।ई-सिम तकनीक दूरसंचार उद्योग में एक बड़ा बदलाव साबित होगी और एयरटेल इस बदलाव को भारत में लाने के लिए काम कर रही है।

जुड़े हुए गतिशीलता

कनेक्टेड मोबिलिटी के क्षेत्र में भी, एयरटेल देश के बाकी दूरसंचार ऑपरेटरों से एक कदम आगे है। ब्रिटिश कार निर्माता एमजी मोटर्स द्वारा इंटरनेट सक्षम कार, एमजी हेक्टर में एयरटेल की डेटा सेवा का उपयोग किया जा रहा है। इस कार में इनबिल्ट मशीन टू मशीन यानी एम 2 एम सिम होगी, जो कार को हमेशा कनेक्टेड रखेगी।इस सिम को भारती एयरटेल ने सिस्को और यूनीलिमिट के साथ मिलकर तैयार किया है।

यानी भारत में तकनीकी नवाचार लाकर, एयरटेल भारत के दूरसंचार क्षेत्र में एक नया चरण शुरू कर रहा है।इनके अलावा, एयरटेल ने भी ब्रॉडबैंड सेवाओं में मजबूती से अपना कदम रखा है। एयरटेल हमेशा अपने ग्राहकों को मोबाइल नेटवर्क और इंटरनेट सेवाओं की मदद से अपने भविष्य के लिए तैयार नेटवर्क की पेशकश करने के लिए तैयार है और साथ ही साथ प्रौद्योगिकी और नेटवर्क बुनियादी ढांचे के उन्नयन के लिए भी। यही कारण है कि एयरटेल स्मार्ट इंडिया का सबसे अच्छा दूरसंचार ऑपरेटर है। 

*This is Brand Desk content

Posted By: Renu Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस