नई दिल्ली, टेक डेस्क। एप्पल ने अपने यूजर्स को बड़ा झटका दिया है। एप्पल के एप्लीकेशन यूज करने के लिए आपको ज्यादा पैसे देने होंगे तभी आप एप्पल के एप्लीकेशन का मजा उठा पाएंगे, क्योंकि अगले कुछ दिनों में एप्पल कुछ देशों में अपने ऐप और इन-ऐप खरीदारी (ऑटो-रिन्यूएबल सब्सक्रिप्शन को छोड़कर) की कीमतों में बढ़ोतरी करने जा रहा है। हालांकि, इसको टैक्स इक्सक्लूसिव प्राइस के आधार पर कैल्क्यूलेट किया जाएगा। यह जानकारी एप्पल ने अपनी वेबसाइट पर एक समाचार पोस्ट के जरिए दी है।

क्या है कारण?

टेक दिग्गज कंपनी एप्पल ने इस कदम के लिए डिजिटल टैक्स और इक्सचेंज रेट्स का हवाला दिया है। कंपनी के बहरीन, यूक्रेन और जिम्बाब्वे में ऐप स्टोर ऐप महंगे होने जा रहे हैं। इन देशों में वैट (उस क्रम में) क्रमशः 5 प्रतिशत, 20 प्रतिशत और 5 प्रतिशत बढ़ा है।

इन सभी देशों में ऐप स्टोर पर ऐप्स में मूल्य की वृद्धि देखी जाएगी। वहीं, कुछ ऐसे देश हैं, जहां कीमतें नहीं बढ़ेंगी, लेकिन आय को निम्नलिखित कर परिवर्तनों को दर्शाने के लिए समायोजित किया जाएगा।

बहामास में वैल्यू-एडेड टैक्स घटाया
आपको बता दें कि बहामास में वैल्यू-एडेड टैक्स को 12% से घटाकर 10% कर दिया जाएगा। ओमान में 5% का वैल्यू एडेड टैक्स और ताजिकिस्तान में वैल्यू एडेड टैक्स को 18% से घटाकर 15% कर दिया जाएगा।

वैल्यू-एडेड टैक्स की दर 19% से घटाकर की गई 5%

एप्पल ने ऑस्ट्रिया, लातविया और रोमानिया के लिए भी कुछ नियम साझा किए हैं। कंपनी ने बताया कि ऑस्ट्रिया में योग्य ई-बुक्स और ऑडियोबुक्स के लिए अस्थायी कमी के बाद वैल्यू-एडेड टैक्स की दर 10% से घटाकर 5% कर दी गई है। लातविया में योग्य ई-पुस्तकों और ई-प्रकाशनों के लिए वैल्यू-एडेड टैक्स की दर 21% से घटाकर 5% की गई है। वहीं, रोमानिया योग्य ई-पुस्तकों, ऑडियो पुस्तकों और ई-प्रकाशनों के लिए वैल्यू-एडेड टैक्स की दर 19% से घटाकर 5% की गई है।

Edited By: Sarveshwar Pathak