नई दिल्ली, टेक डेस्क। Indian Air Force ने आज अपने पठानकोट एयरबेस पर अपने आठ Apache AH-64E हेलीकॉप्टर को तैनात किया है। यह हेलिकॉप्टर दुनिया के सबसे शक्तिशाली हेलिकॉप्टर में से एक है। इसमें नई तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। यही नहीं, इस हेलिकॉप्टर का इस्तेमाल अमेरिकी सेना भी करते हैं। आज हम आपको इस हेलिकॉप्टर से जुड़ी Technical Facts के बारे में बताने जा रहे हैं जो इसे एक शक्तिशाली हेलिकॉप्टर बनाता है।

  • Apache AH-64E किसी भी मौसम में, दिन हो या रात किसी भी समय उड़ान भर सकता है। इसमें लेटेस्ट तकनीक का इस्तेमाल किया गया है जो इसे लंबी दूरी के वीपन को लॉन्च करने में मदद करता है।
  • इस हेलिकॉप्टर रडार से लैस है, जिसकी वजह से ये एक्यूरेसी के साथ टारगेट को भेद सकता है।
  • इसमें ऐसी तकनीक का इस्तेमाल किया गया है जिसकी वजह से यह एक मिनट से भी कम समय में 128 टारगेट को एक साथ भेद सकता है।

  • Apache AH-64E का निर्माण करने वाली कंपनी Boeing के मुताबिक, इसमें कई तरह के इंटिग्रेटेड सेंसर, नेटवर्किंग, सिचुएशन के हिसाब से डिजिटल कम्युनिकेशन अवेयरनेस, रियल टाइम कॉम्बैट एरिया मैनेजमेंट, टारगेट लोकेशन के लिए डिजिटल इमेज ट्रांसमिशन जैसी आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया गया है।
  • Apache AH-64E एयर-टू-एयर मिसाइल से लैस है जो दुश्मन के चॉपर को पलक झपकते ही भेद सकता है। यही नहीं, यह जमीन पर मौजूद ट्रूप्स को भी सपोर्ट कर सकता है।

  • कई तरह की आधुनिक इलेक्ट्रनिक इक्वीपमेंट्स की वजह से इसे एक मोस्ट एडवांस्ड कॉम्बैट हेलिकॉप्टर कहा जा सकता है।
  • Apache AH-64E एक साथ 256 मूविंग टारगेट्स को डिटेक्ट कर सकता है। इसमें ट्वीन इंजन का इस्तेमाल किया गया है जिसे दो पॉयलट मिलकर ऑपरेट कर सकते हैं।

Posted By: Harshit Harsh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप