नई दिल्ली, टेक डेस्क। Twitter Safety Tips and Tricks: भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (CERT-IN) ने यूजर्स को अपने ट्वीटर अकाउंट को सिक्योर रखने के तरीके बताये हैं। CERT-IN की मानें, तो हाल ही में स्कैमर्स की तरफ से कई ट्वीटर अकाउंट को हैक किया गया है, जिसके काफी संख्या में फॉलोवर हैं। इन ट्वीटर अकाउंट से संवेदनशील जानकारी चोरी की गई है। साथ ही फेक लिंक को पोस्ट की घटनाएं घटी हैं। ऐसे में CERT-In ने ट्वीटर यूजर को अपने अकाउंट को सिक्योर रखने के तरीके बताये हैं, जिससे ट्वीटर हैंकिंग की घटनाओं को कम किया जा सके।

मजबूत पासवर्ड बनाएं

ट्विटर यूजर लंबी और मजबूत पासवर्ड बनाएं, जिसमें अपरकेस, लोअरकेस, नंबर और सिंबल शामिल हो। इस पासवर्ड को दूसरी जगह ना इस्तेमाल करें। फोन नंबर, डेट ऑफ बर्थ जैसे कॉमन शब्दों से पासवर्ड ना बनाएं।

टू-फैक्टर अथेंटिकेशन

टू-फैक्टर अथेंटिकेशन ट्वीटर अकाउंट को एक्स्ट्रा लेयर सिक्योरिटी देती है। लॉगिन इंफॉर्मेशन को सिक्योर करने के लिए पासवर्ड मैनेजमेंट ऑथेंटिकेशन सिक्योरिटी को बढ़ाने के लिए पासवर्ड के अलावा एक सिक्योरिटी कोड या सिक्योरिटी की का इस्तेमाल करना चाहिए।

​फिशिंग से सावधान

ट्वीटर पर पर्सनल मैसेज ट्वीटर रिप्लाई, ईमेल और डीएम करके फेक लिंक शेयर करते हैं, जिस पर क्लिक करते ही आप हैकिंग का शिकार हो सकते हैं। ऐसे में ट्वीटर की किसी अनजान लिंक पर ना क्लिक करें।

फॉलोअर बढाने के झांसे में ना आए

यूजर को फॉलोअर बढ़ाने के झांसे में नहीं आना चाहिए। साथ ही किसी को ट्वीटर यूजर नेम या फिर पासवर्ड ना बताएं, क्योंकि आपका ऐसा करना खतरनाक हो सकता है।

सिक्योर डिवाइस पर करें ट्वीटर का इस्तेमाल

ट्वीटर यूजर को हमेशा सिक्योर डिवाइस पर ट्वीटर का इस्तेमाल करना चाहिए। किसी भी डिवाइस पर ट्वीटर अकाउंट लॉग-इन करने से बचना चाहिए। साथ ही जिस कंप्यूटर, मोबाइल या फिर टैबलेट पर ट्वीटर का इस्तेमाल कर रहे हैं, वो लेटेस्ट सॉफ्टवेयर से अपडेट होना चाहिए। साथ ही डिवाइस में एंटी वायरस इंस्टॉल हो।

ट्वीटर अलर्ट रिव्यू

अगर आप नई डिवाइस में ट्वीटर का इस्तेमाल करते हैं, तो ट्वीटर आपको अलर्ट करता है। इसे लेकर ट्वीटर पुश नोटिफिकेशन भेजता है। अगर आपने ट्वीटर लॉन-इन नहीं किया है, तो तुरंत ट्विटर अकाउंट से संबंधित ईमेल एड्रेस बदल दें।

​थर्ड पार्टी ऐप का सावधानी से इस्तेमाल करें

थर्ड पार्टी ऐप से ट्वीटर अकाउंट लॉग-इन ना करें। ऐसा करने से थर्ड पार्टी आपके ट्वटीर की गतिविधियों को कंट्रोल कर सकते हैं।

Edited By: Saurabh Verma