नई दिल्ली, पीटीआई। सोशल नेटवर्किंग साइट Facebook ने बच्चो के लिए वीडियो चैट और मैसेजिंग ऐप Facebook Messenger Kids को भारत समेत कुल 75 देशों में लॉन्च कर दिया है। अब बच्चों के अकाउंट पर माता-पिता का अधिक​ कंट्रोल होगा। इस ऐप की खासियत है कि डाउनलोड करने के बाद इस पर बच्चे खुद नहीं, बल्कि उनके पेरेंट्स उनका अकाउंट बना सकेंगे। बता दें कि Facebook Messenger Kids को साल 2017 में अमेरिका में लॉन्च किया गया था। वहीं अब यह अन्य देशों में भी उपलब्ध करा दिया गया है। 

Facebook Messenger Kids को गूगल प्ले और ऐप स्टोर से फ्री डाउनलोड किया जा सकता है। इस ऐप को लॉन्च करने के पीछ कंपनी का उद्देश्य बच्चों को उनके दोस्तों से जोड़ना है और वह भी उनके पेरेंट्स की निगरानी में। भारत में COVID-19 की वजह से देशव्यापी लॉकडाउन चल रहा है। ऐसे में स्कूल, कॉलेज और ऑफिस सभी जगहें बंद हैं।  बच्चों के लिए यह टाइम वाकई काफी मुश्किल है, क्योंकि ना तो वह घर से बाहर खेलने जा सकते और ना ही दोस्तों से मिल सकते हैं। ऐसे में Facebook Messenger Kids बहुत बड़ा साथी बन सकता है। इस ऐप की मदद से बच्चे अपने दोस्तों से वीडियो चैट कर सकेंगे। 

Facebook ने अपने बयान में कहा है कि 'COVID-19 की वजह से स्कूल बंद हैं और लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं। माता-पिता अपने बच्चों को दोस्तों और परिवार से जुड़ने में मदद करने के लिए तकनीक का उपयोग कर रहे हैं। इसके साथ ही  माता-पिता ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर बच्चों को कंट्रोल भी करना चाहते हैं।'

Facebook Messenger Kids ऐप में Supervised Friending नाम का एक खास फीचर दिया गया है। इस फीचर की मदद से पेरेंट्स यह सुनिश्चित कर पाएंगे कि उन्हें अपने बच्चों की ​फ्रेंड लिस्ट में किसे ऐड करना है और किसे नहीं। इसके अलावा पेरेंट्स को डैशबोर्ड पर बच्चों के पास आने वाली फ्रेंड रिक्वेस्ट का भी नोटिफिकेशन मिलता रहेगा। इतना ही नहीं इस ऐप में पेरेंट्स बच्चों को स्कूल और क्लास के ग्रुप में ऐड करने के लिए उनके अध्यापकों को भी अधिकार दे सकते हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस