Maa Lakshmi Ke 7 Upaye: कार्तिक मास विशेष रूप से भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी के पूजन को समर्पित होता है। कार्तिक मास की शुरूआत के एक दिन पहले शरद पूर्णिमा को मां लक्ष्मी का अवतरण दिवस माना जाता है। इसके साथ इसी माह में धनतेरस और दीपावली के दिन धन की देवी मां लक्ष्मी का पूजन-अर्चन किया जाता है। इसके साथ ही कार्तिक मास के शुक्रवार को मां लक्ष्मी को प्रसन्न कर सरलता से सुख-समृद्धि का आशीर्वाद प्राप्त किया जा सकता है। आइए जानते हैं इस शुक्रवार मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के कुछ सरल उपाय....

1-शुक्रवार का दिन धन की देवी मां लक्ष्मी का प्रिय दिन है। इस दिन मां लक्ष्मी को गुलाबी रंग के फूल और वस्त्र अर्पित करने चाहिए। ऐसा करने से मां लक्ष्मी शीघ्र प्रसन्न होती हैं।

2- शुक्रवार के दिन वैभव लक्ष्मी का व्रत और पूजन करने का विधान है। इस दिन पूजन में मां लक्ष्मी को इत्र, गंध या सुगंधित पदार्थ चढ़ाने चाहिए। इत्र की सुगंध से मां लक्मी्म स्वतः घर में प्रवेश करती हैं।

3- मां लक्ष्मी के पूजन में शुद्ध घी या तिल के तेल के 11 दीपक जलाएं। ऐसा करने से मां लक्ष्मी सुख और सौभाग्य का आशीर्वाद प्रदान करती हैं।

4- शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी के सामने सरसों के तेल का दिपक जलाएं। दिपक बुझने के बाद बचे हुए तेल को अगले दिन शनिवार को पीपल के पेड़ पर अर्पित कर दें। आपके घर से दुख-दारिद्य दूर होगा और धन का आगमन होगा।

5- घर में कहीं भी अगर नल टपक रहा हो तो उसे शीघ्र ठीक करवा लें। पानी के रिसाव से साथ मां लक्ष्मी भी घर से निकल जाती हैं और आर्थिक तंगी आने लगती है।

6- शुक्रवार के दिन घर की साफ-सफाई जरूर करें। इस दिन मकड़ी के जाले साफ करने से कर्ज से मुक्ति मिलती है और धन लाभ होता है।

7- शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी के पूजन में उन्हें नारियल चढ़ाएं और पूजन के बाद इस नारियल को चमकीले कपड़े में लपेट कर अपनी तिजोरी में रख दें, धन वृद्धि होने लगेगी।

डिस्क्लेमर

''इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना में निहित सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्म ग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारी आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना के तहत ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।''

 

Edited By: Jeetesh Kumar