Move to Jagran APP

Ganesh Puja: गणेश जी को बिल्कुल भी न अर्पित करें ये चीजें, वरना शुभ की जगह मिल सकते हैं अशुभ परिणाम

हिंदू मान्यताओं के अनुसार भगवान गणेश को विघ्नहर्ता कहा जाता है क्योंकि किसी भी काम की शुरुआत से पहले यदि भगवान गणेश की पूजा की जाए तो इससे उस काम में कोई बाधा नहीं आती। ऐसे में भगवान गणेश की कृपा के लिए उनकी पूजा में कुछ खास बातों का जरूर ध्यान रखना चाहिए ताकि आपको इसके केवल शुभ परिणाम ही मिलें।

By Suman Saini Edited By: Suman Saini Wed, 10 Jul 2024 07:30 AM (IST)
Ganesh Puja: गणेश जी को बिल्कुल भी न अर्पित करें ये चीजें।

धर्म डेस्क, नई दिल्ली। गणेश जी की आराधना के लिए बुधवार का दिन सबसे उत्तम माना जाता है। कई बार लोग पूजा-पाठ के दौरान गलतियां कर बैठते हैं, जिस कारण उन्हें शुभ की जगह अशुभ परिणाम मिलने लगते हैं। चलिए जानते हैं कि वह कौन-सी चीजें हैं, जिन्हें भगवान गणेश को भूलकर भी अर्पित नहीं करना चाहिए।

गलती से भी न चढ़ाएं ये चीज

गणेश की पूजा के दौरान इस बात का विशेष रूप से ध्यान रखें कि उन्हें कभी भी टूटे हुए चावल न चढ़ाएं। ऐसा करने से जीवन में समस्याएं आ सकती हैं। इसलिए पूजा में हमेशा अक्षत यानी साबुत चावल का उपयोग करना चाहिए।

ये अर्पित करें ये फूल

गणेश जी को पूजा के दौरान गेंदे के फूल अर्पित करना शुभ माना जाता है। लेकिन उनकी पूजा में कभी भी केतकी के फूल नहीं चढ़ाने चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से गणेश भगवान रुष्ठ हो सकते हैं। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें, कि गणेश जी की पूजा के दौरान मन में गलत विचार न लाएं, वरना आप पूर्ण फल प्राप्ति से वंचित रह जाते हैं।

यह भी पढ़ें - Ganesh Mantra: बुधवार के दिन पूजा के समय करें इन मंत्रों का जप, चमक उठेगा सोया हुआ भाग्य

गलती से बिना चढ़ांऐ ये चीज

भगवान गणेश को दूर्वा अर्पित करना बहुत ही अच्छा माना जाता है। लेकिन उन्हें कभी भी तुलसी के पत्ते अर्पित नहीं करने चाहिए। क्योंकि एक पौराणिक कथा में यह वर्णन मिलता है कि तुलसी ने भगवान गणेश को श्राप दिया था। इसी वजह से गणेश जी की पूजा में तुलसी का इस्तेमाल नहीं किया जाता।

यह भी पढ़ें - Budhwar Ke Upay: बुधवार के दिन पूजा के समय करें ये 5 आसान उपाय, पूरी होगी मनचाही मुराद

WhatsApp पर हमसे जुड़ें. इस लिंक पर क्लिक करें

अस्वीकरण: इस लेख में बताए गए उपाय/लाभ/सलाह और कथन केवल सामान्य सूचना के लिए हैं। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया यहां इस लेख फीचर में लिखी गई बातों का समर्थन नहीं करता है। इस लेख में निहित जानकारी विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों/दंतकथाओं से संग्रहित की गई हैं। पाठकों से अनुरोध है कि लेख को अंतिम सत्य अथवा दावा न मानें एवं अपने विवेक का उपयोग करें। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया अंधविश्वास के खिलाफ है।