श्रीनगर/जम्मू, जागरण टीम। मौसम ने रविवार को फिर बाबा अमरनाथ के भक्तों को रोकने का प्रयास किया, लेकिन जल्द ही उसे हार माननी पड़ी। इस बीच 4300 श्रद्धालु हर-हर महादेव का जयघोष करते हुए पवित्र गुफा के लिए बालटाल व नुनवन से रवाना हुए। जम्मू स्थित आधार शिविर यात्री निवास भगवती नगर से 1514 श्रद्धालुओं का जत्था पहलगाम व बालटाल के लिए रवाना हुआ। इस बीच, 5829 श्रद्धालुओं के हिमलिंग स्वरूप के दर्शन करने के साथ ही इस साल श्री अमरनाथ की तीर्थयात्रा करने वालों की संख्या दो लाख 44 हजार 855 हो गई है। इस दौरान बालटाल के निकट एक श्रद्धालु महेश प्रसाद की हृदयाघात से मौत भी हो गई। इसके साथ ही इस साल श्री अमरनाथ की वार्षिक तीर्थयात्रा के दौरान दम तोडऩे वाले श्रद्धालुओं की संख्या 23 हो गई है।

सुबह बालटाल और नुनवन के रास्ते पवित्र गुफा तक कई जगहों पर बारिश हुई। इससे यात्रा मार्ग पर फिसलन बढ़ गई थी और भूस्खलन भी हुआ था। एहतियातन संबंधित अधिकारियों ने दो घंटे के लिए श्री अमरनाथ यात्रा को स्थगित कर दिया। लेकिन मौसम के साफ होने के बाद संबंधित अधिकारियों ने स्थिति की समीक्षा की। इसके बाद उन्होंने दोनों ही आधार शिविरों से श्रद्धालुओं को आगे जाने की अनुमति दे दी।

अधिकारियों के मुताबिक, बालटाल से 1615 और पहलगाम से 2650 श्रद्धालु पवित्र गुफा के लिए रवाना हुए। जम्मू से रवाना हुए जत्थे में 1059 पुरुष, 297 महिलाएं, 11 बच्चे और 147 साधु शामिल थे, जो 44 वाहनों में सवार होकर यात्रा पर गए।

Posted By: Rajesh Niranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप