Chhath Puja 2021: भगवान सूर्य देव और छठी मैय्या के व्रत का महापर्व छठ आज से मनाया जाएगा। आज कार्तिक माह की चतुर्थी के दिन नहाया-खाया से छठ पर्व की शुरूआत होती है।डूबते सूरज का अर्ध्य 10 नवंबर को षष्ठी के दिन चढ़ाया जाएगा। भगवान सूर्य जैसी तेजस्वी संतान की प्राप्ति और उसकी दीर्ध आयु के लिए छठ का व्रत रखा जाता है। मान्यता है कि छठी मैय्या व्रत और पूजन से प्रसन्न होकर संतान का सुख प्रदान करती हैं। लेकिन छठ का व्रत सबसे कठिन व्रतों में से एक है। इस व्रत में हमें कुछ बातों का खास ध्यान रखना चाहिए, आइए जानते हैं इनके बारे में...

1-छठी मैय्या को सफाई और स्वच्छता विशेष रूप से प्रिय है। छठ के पर्व में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

2- छठ का प्रसाद उस जगह पर नहीं बनाना चाहिए, जहां पर रोज का खाना बनात हो। छठ का प्रसाद मिट्टी के चूल्हे पर बनाना चाहिए।

3- छठ का प्रसाद बनाते समय ध्यान रखें, पूजा से पहले इस किसी भी तरह से जूठा न होने दें और नहीं इसमें पैर लगने दें।

4- छठ पूजा के किसी भी समान को बिना नहाए न छुए।

5- छठ का व्रत रखने वाले व्रती को नये कपड़े पहनने चाहिए।

6- छठ का व्रत रखने वाले को बिस्तर पर नहीं सोना चाहिए। जमीन पर चादर बिछा कर सोयें।

7- भगवान सूर्य को अर्ध्य देते समय चांदी, स्टील, कांच या प्लास्टिक के लोटे का प्रयोग नहीं करना चाहिए।

8- छठ की पूजा में सात्विक भोजन ही करना चाहिए। इस दौरान लहसुन-प्याज का सेवन न करें।

9- व्रती को बिना भगवान सूर्य को अर्घ्य दिए, खाना या पानी ग्रहण नहीं करना चाहिए।

10- छठ पर्व में ठेकुआ का प्रसाद जरूर बनाएं, ये छठी मैय्या का सबसे प्रिय प्रसाद है।

डिस्क्लेमर

''इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना में निहित सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्म ग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारी आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना के तहत ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।''

Edited By: Jeetesh Kumar