Move to Jagran APP

Chanakya Niti: जीवनभर के लिए गांठ बांध लें आचार्य चाणक्य की ये बातें, कभी नहीं होंगे असफल

आचार्य चाणक्य के विचार आज भी प्रासंगिक हैं। उनकी रचना चाणक्य नीति (Chanakya Niti Tips) दुनियाभर में प्रसिद्ध है। आचार्य चाणक्य ने अपने नीतिशास्त्र में वर्णन किया है कि व्यक्ति को अपने जीवन में किन चीजों का ध्यान रखना चाहिए ताकि वह सफलता की सीढ़ी चढ़ सके। ऐसे में आप भी इन बातों को अपने जीवन में उतार सकते हैं।

By Suman Saini Edited By: Suman Saini Wed, 10 Jul 2024 06:51 PM (IST)
Chanakya Niti: जीवनभर के लिए गांठ बांध लें आचार्य चाणक्य की ये बातें।

धर्म डेस्क, नई दिल्ली। हर व्यक्ति चाहता है कि उसके परिवार में हमेशा एकता और सुख-शांति बनी रहे। इसके लिए आचार्य चाणक्य ने अपनी नीति में कुछ ऐसे उपाय बताए हैं, जिन्हें हर व्यक्ति को जीवन में अपनाना चाहिए, ताकि वह कभी असफल न हो। चलिए जानते कि वह कौन-सी बातें हैं, जिन्हें जीवन में अपनाने से हार का सामना नहीं करना पड़ता है।

जरूर ध्यान रखें ये चीजें

आचार्य चाणक्य के अनुसार, एक व्यक्ति को हमेशा सत्य और ईमानदारी के मार्ग पर चलना चाहिए। पहले भले ही इस मार्ग में कठिनाई आती है, लेकिन आगे जाकर ईमानदार व्यक्ति ही सम्मान का पात्र बनता है।

क्या कहते हैं आचार्य चाणक्य

इंसान को कभी भी फिजूल खर्च नहीं करनी चाहिए। यह एक खराब आदत है, जो व्यक्ति की समस्याएं बढ़ा सकती हैं। चाणक्य की मानें तो धन की बचत करना जरूरी है, क्योंकि अर्जित धन ही आपके भविष्य का साथी बनता है।

बरसती है मां लक्ष्मी की कृपा

इंसान को हमेशा मेहनती होना चाहिए और मेहनत करने से कभी मन नहीं चुराना चाहिए। आचार्य चाणक्य के अनुसार, वही व्यक्ति जीवन में सफलता प्राप्त करता है, जो आलस को त्याग कर मेहनत का रास्ता अपनाता है। क्योंकि जो व्यक्ति मेहनती होता है, मां लक्ष्मी भी उसी पर अपनी कृपा बरसाती हैं।

यह भी पढ़ें - Chanakya Niti tips: अच्छे-अच्छों को बर्बाद कर सकती हैं ये गलती, चाणक्य की इन बातों का जरूर रखें ध्यान

मधुर रखें अपनी मां बनी

मनुष्य को दूसरों के प्रति हमेशा मधुर वाणी का प्रयोग करना चाहिए। क्योंकि कड़वी वाणी बोलकर व्यक्ति अपना ही नुकसान कर बैठता है। आचार्य चाणक्य का कहना है कि मीठी वाणी बोलकर व्यक्ति अपने काम में सफलता पा सकता है और इससे लोगों पर भी अच्छा प्रभाव पड़ता है।

अस्वीकरण: इस लेख में बताए गए उपाय/लाभ/सलाह और कथन केवल सामान्य सूचना के लिए हैं। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया यहां इस लेख फीचर में लिखी गई बातों का समर्थन नहीं करता है। इस लेख में निहित जानकारी विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों/दंतकथाओं से संग्रहित की गई हैं। पाठकों से अनुरोध है कि लेख को अंतिम सत्य अथवा दावा न मानें एवं अपने विवेक का उपयोग करें। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया अंधविश्वास के खिलाफ है।