Basant Panchami 2022: फरवरी का महीना अंग्रेजी कैलेण्डर का दूसरा महीना है। इस माह में कई व्रत और त्योहार आने वाले हैं।एक ओर तो इस माह में माघ महीने की समाप्ति 16 फरवरी को हो रही है। इसके बाद हिंदी पंचांग का अंतिम माह फाल्गुन की शुरूआत होगी। इनके साथ ही इस माह में तीन प्रमुख हिंदू देवी देवताओं के जन्मोत्सव पर्व भी मनाए जाएगें। इस माह में भक्तगण प्रथम पूज्य भगवान गणेश की जयंती का पूजन 04 फरवरी को मनाएंगे। तो वहीं बुद्धि की देवी मां सरस्वती की जयंती बसंत पंचमी और सूर्य सप्तमी के दिन भगवान सूर्य का जन्मोत्सव मानाया जाएगा। आइए जानते हैं इन जन्मोत्सव की सही तिथि और मुहूर्त के बारे में।

1-गणेश जयंती -

पौराणिक मान्यता के अनुसार भगवान गणेश का जन्म माघ मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को हुआ था। इस तिथि को गणेश जयंती मनाई जाती है।पंचांग गणना के अनुसार इस साल माघ शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि 04 फरवरी को सुबह 04:38 बजे प्रारंभ होकर अगले दिन 05 फरवरी को सुबह 03:47 बजे समाप्त होगी। ऐसे में गणेश जयंती 04 फरवरी को ही मनाई जाएगी। इसे विनायक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। गणेश जयंती पर पूजा का शुभ मुहूर्त दिन में 11:30 बजे से दोपहर 01:41 बजे के बीच है।

2-सरस्वती जयंती या बसंत पंचमी

मान्यता है कि माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को बुद्धि, ज्ञान और वाणी की देवी मां सरस्वती का प्रकाट्य हुआ था।इस दिन सरस्वती जयंती और बसंत पंचमी का त्योहार मनाया जाता है। पंचांग गणना के अनुसार बसंत पंचमी का त्योहार 05 फरवरी, दिन शनिवार को मनाया जाएगा। सरस्वती पूजा का मुहूर्त प्रात: 07:07 बजे से लेकर दोपहर 12:35 बजे तक मान्य है।

3-सूर्य सप्तमी या रथ सप्तमी

माघ माह के शुक्ल पक्ष सप्तमी तिथि को सूर्य सप्तमी या रथ सप्तमी के नाम से जाना जाता है। मान्यता है कि इस दिन भगवान सूर्य अपने सात घोड़े वाले रथ पर प्रकट हुए थे। इस कारण प्रत्येक वर्ष इस दिन सूर्य जयंती मनाई जाती है। सूर्य जयंती को रथ सप्तमी या अचला सप्तमी भी कहते हैं। इस साल सूर्य जयंती 07 फरवरी को मनाई जाएगी है। पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 05:22 बजे से लेकर सुबह 07:06 बजे तक रहेगा।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

Edited By: Jeetesh Kumar