Amavasya 2021: वर्ष 2021 का आगाज कुछ ही दिनों में हो जाएगा। जैसे ही नया वर्ष शुरू होगा वैसे ही त्यौहार और व्रत भी शुरू हो जाएंगे। इन्हीं में एक अमावस्या भी है। हिन्दु पञ्चांग के अनुसार, जब चंद्रमा को देखा नहीं जा सकेगा वह दिन अमावस्या कहलाता है। पृथ्वी का एक चक्कर चंद्रमा करीब 28 दिनों में पूरा करता है। वहीं, हर 15वे दिन चंद्रमा धरती के दूसरी तरफ होता है। यही कारण है कि चंद्रमा को नहीं देखा जा सकता है। इसी दिन को अमावस्या भी कहा जाता है। हिंदू शास्त्रों में इस दिन को बहुत ही अहम माना गया है। साथ ही इस दिन को पूर्वजों का दिन भी कहा जाता है।

मान्यता के अनुसार, अमावस्या के दिन भगवान का स्मरण करना चाहिए। साथ ही बुरे व्यसनों से भी दूर रहना चाहिए। इस दिन गरीब लोगों को दान करना चाहिए। अमावस्या के दिन गरीबों को भोजन कराने से यह सीधा पितरों तक पहुंचता है। अगर ऐसा किया जाए तो इससे पितृ दोष से मुक्ति मिल जाती है। वर्ष 2021 में अमावस्या कब-कब पड़ने वाली है इसकी जानकारी हम आपको यहां दे रहे हैं। तो आइए जानते हैं इन तिथियों के बारे में-

दर्श अमावस्या- 12 जनवरी 2021, मंगलवार

पौष अमावस्या- 13 जनवरी 2021, बुधवार

दर्श अमावस्या, माघ अमावस्या- 11 फरवरी 2021, गुरुवार

फाल्गुनी अमावस्या- 13 मार्च 2021, शनिवार

दर्श अमावस्या- 11 अप्रैल 2021, रविवार

चैत्र अमावस्या- 12 अप्रैल 2021, सोमवार

वैशाख अमावस्या- 11 मई 2021, मंगलवार

ज्येष्ठ अमावस्या- 10 जून 2021, गुरुवार

आषाढ़ अमावस्या- 9 जुलाई 2021, शुक्रवार

श्रावण अमावस्या- 8 अगस्त 2021, रविवार

भाद्रपद अमावस्या- 07 सितम्बर 2021, मंगलवार

आश्विन अमावस्या- 06 अक्तूबर 2021, बुधवार

कार्तिक अमावस्या- 04 नवम्बर 2021, गुरुवार

मार्गशीर्ष अमावस्या- 04 दिसम्बर 2021, शनिवार 

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'  

Edited By: Shilpa Srivastava