हरेक के लिए अलग देवी का है महत्व 

मां दुर्गा की पूजा का उत्सव नवरात्रि 10 अक्टूबर 2018 बुधवार से शुरू हो चुका है। इस नवरात्रि में कई एेसे संयोग बन रहे हैं जो विधि पूर्वक पूजा करने वालों को अदभुत फल देने वाले हैं। इस बार नवरात्रि पूरे 9 दिनों तक रहेंगी आैर देवी मां इस वर्ष नाव पर सवार होकर आयेंगी। नवरात्रि के पर्व पर देवी के नौ शक्ति रुप की पूजा होती है | शक्ति और भक्ति के भंडार ये रूप हैं शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चन्द्रघंटा, कूष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी, आैर सिद्धिदात्री। इसके साथ ही हर देवी की पूजा का संबंध व्यक्ति की राशियों से भी है। भक्त यदि अपनी राशि के अनुसार माता के रूपों का पूजन करेंगे आैर वस्तुयें अर्पित करेंगे तो उन्हें विशेष लाभ की प्राप्ति होगी।  

राशि, देवी आैर पूजन सामग्री 

मेष राशि: इस राशि वालों को मां दुर्गा की आराधना करनी है आैर  9 फूलदार लौंग चढ़ानी हैं। 

वृषभ राशि: जबकि वृष राशि वालों को काली की आराधना करनी है आैर 9 इलायची चढ़ायें। 

मिथुन राशि: आप देवी तारा की आराधना करें आैर 9 चूनर चढ़ायें।    

कर्क राशि: माता कमला की आराधना करें आैर 9 जटादार नारियल चढ़ायें।  

सिंह राशि: त्रिपुरा माता की पूजा करें आैर उन पर 9 गुड़हल के फूल अर्पित करें। 

कन्या राशि: मातंगी स्वरूप की पूजा करें आैर 9 चूड़ियां चढ़ायें। 

तुला राशि: 9 जौ के दाने चढ़ाते हुए मां काली का पूजन करें। 

वृश्चिक राशि: आप 9 अखंडित बताशे चढ़ा कर दुर्गा जी की पूजा करें। 

धनु राशि: माता पर 9 ध्वजा अर्पित करें आैर उनके बगलामुखी स्वरूप की पूजा करें।  

मकर राशि: षोडशी स्वरूप की पूजा करें आैर 9 बिंदी चढ़ायें। 

कुंभ राशि: इस राशि वालों को देवी के भुवनेश्वरी स्वरूप की पूजा करनी फलदायी होगी आैर उन पर 9 गुलाब चढ़ाना ना भूलें। 

मीन राशि: आप बगलामुखी स्वरूप का पूजन करें आैर उन पर 9 हल्दी की गांठें चढ़ायें। 

Posted By: Molly Seth