Varalakshmi Vrat 2019: सावन के अंतिम शुक्रवार को वरलक्ष्मी व्रत होता है। इस दिन मां लक्ष्मी की विधि विधान से पूजा अर्चना की जाती है, जिससे सुख-समृद्धि प्राप्त होती है, आर्थिक तंगी दूर होती है, व्यक्ति धनवान होता है। आज सावन का अंतिम शुक्रवार है, इस दिन वरलक्ष्मी व्रत जरूर करना चाहिए।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, वरलक्ष्मी व्रत का दीपावली जैसा ही महत्व होता है। इस दिन माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा से विशेष लाभ प्राप्त होता है। सुख-समृद्धि और संपदा की देवी लक्ष्मी भक्तों की दरिद्रता दूर करती हैं तो भगवान गणेश हर तरह के विघ्न-बाधाओं को हर लेते हैं।

माता लक्ष्मी और गणपति की मूर्ति खरीदने के लिए करें क्लिक

वरलक्ष्मी व्रत एवं पूजा विधि
यह व्रत मुख्य तौर पर महिलाएं रखती हैं। स्नाना आदि से निवृत्त होने के बाद पूजा घर में साफ आसन पर बैठें। पूजा की चौकी पर साफ लाल कपड़ा बिछाकर माता लक्ष्मी और गणेश जी की मूर्ति या तस्वीर रखें। फिर विधि विधान से दोनों की पूजा के बाद माता लक्ष्मी को श्रृंगार के 11 सामान अर्पित करें। पूजा के दौरान लक्ष्मी स्तोत्र का पाठ जरूर करें, इससे माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

शाम के समय माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा करें, उनको मिठाई का भोग लगाएं और फिर आरती करें। शाम की पूजा के बाद कन्या भोज करें, उनको मिठा भोजन कराएं और कुछ दान भी करें। ऐसा करना भी आपके लिए फलदायक होगा।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: kartikey.tiwari