Hariyali Teej 2021 Puja Samagri : हिंदी पंचांग के अनुसार हरियाली तीज सावन मास में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनायी जाती है। यह त्योहार महिलाओं के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। इस दिन महिलाएं पति की दीर्घायु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं। इस व्रत के माध्यम से विवाहित महिलाएं अपने पति के सुखमय जीवन की कामना करती हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती का मिलन हुआ ​था। हरियाली तीज को महिलाएं पूरे विधि-विधान से पूजा करती हैं। आइए जानते हैं कि इस वर्ष हरियाली तीज कब है और इस पूजा में क्या-क्या सामग्री लगती है। जिससे आप समय रहते इसकी तैयारी कर सकें।

हरियाली तीज शुभ मुहूर्त 

हरियाली तीज आरम्भ : 10 अगस्त मंगलवार शाम 06 बजकर 05 मिनट से

हरियाली तीज समाप्त : 11 अगस्त दिन बुधवार को शाम 04 बजकर 53 मिनट तक

हरियाली तीज व्रत उदया तिथि में रखा जाएगा इसलिए यह व्रत 11 अगस्त दिन बुधवार को है।

हरियाली तीज की पूजा सामग्री

हरियाली तीज व्रत के दौरान भगवान शिव, माता पार्वती और गणपति की प्रतिमा बनाने के लिए शुद्ध मिट्टी, पीले रंग का कपड़ा, केले के पत्ते, बेल पत्र, शमी के पत्ते, धतूरा, आंकड़े के पत्ते, तुलसी, जनेऊ,धागा, जटा नारियल, चुनरी और साड़ी होना आवश्यक है।

हरियाली तीज में देवी की श्रृंगार सामग्री

हरियाली तीज व्रत के दौरान माता पार्वती के श्रंगार में चूडियां, महावर, नथ, कुमकुम, सिंदूर, बिंदी, मेहंदी, बिछुआ, कंघी, नेलपॉलिश आदि सामग्री का होना जरूरी है। इसके अलावा श्रीफल, कलश, अबीर, चंदन, तेल और घी, कपूर, दही, चीनी, शहद ,दूध और पंचामृत की सामग्री होना चाहिए। 

डिसक्लेमर

 

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

Edited By: Ritesh Siraj