Mauni Amavasya 2022: सनातन धर्म में अमावस्या और पूर्णिमा की तिथियों का विशेष महत्व है। इस दिन गंगा स्नान, पूजा, जप और दान का विधान है। मान्यता है कि अमावस्या और पूर्णिमा के दिन पूजा, जप, तप और दान करने से देवी-देवता प्रसन्न होते हैं। उनकी कृपा से व्यक्ति को सभी पापों से मुक्ति मिलती है। साथ ही पितृजन भी प्रसन्न होकर व्यक्ति को सुख, समृद्धि और दीर्घायु होने का आशीर्वाद देते हैं। पूर्णिमा और अमावस्या की तिथियों पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु पवित्र नदियों में स्नान और पूजा करते हैं। इस वर्ष 1 फरवरी को मौनी अमावस्या है। इस दिन भगवान श्रीहरि विष्णु संग मां लक्ष्मी की पूजा-उपासना की जाती है। अगर आप भी मां लक्ष्मी की कृपा पाना चाहते हैं, तो मौनी अमावस्या के दिन इन उपायों को जरूर करें। आइए जानते हैं-

1.

ज्योतिषों की मानें तो मौनी अमावस्या के दिन चींटियों को शक्कर मिलाकर आटा खिलाने से व्यक्ति को अमोघ फल के समतुल्य पुण्य की प्राप्ति होती है। साथ ही मां लक्ष्मी भी प्रसन्न होती हैं।

2.

शास्त्रों में निहित है कि मौनी अमावस्या के दिन स्नान-ध्यान करने के बाद आटे की गोलियां मछलियों को खिलाने से व्यक्ति के जीवन में व्याप्त सभी परेशानियों का अंत होता है।

3.

मौनी अमावस्या के दिन मां लक्ष्मी का स्मरण कर ईशान कोण में शुद्ध घी का दीपक जलाएं। इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होकर व्यक्ति की सभी सकारात्मक मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं।

4.

पूर्णिमा और अमावस्या के दिन मां लक्ष्मी को चावल से पका खीर भोग लगाएं। इससे घर में सुख और समृद्धि का आगमन होता है। साथ ही परिवार में व्याप्त सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं।

5.

मौनी अमावस्या तिथि को मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए पूजा, जप, तप के पश्चात दान अवश्य करें। अत: जथा शक्ति तथा भक्ति के भाव से गरीबों और जरुरतमंदों को अन्न, वस्त्र, काले कंबल और अर्थ का दान जरूर करें। अमावस्या के दिन दान करने से पितर भी प्रसन्न होते हैं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

Edited By: Pravin Kumar