Diwali 2020 Date: दशहरा समापन के बाद अब लोगों को दीपों के पर्व दिवाली का इंतजार है। दिवाली के दिन धन और ऐश्वर्य की देवी माता लक्ष्मी तथा प्रथम पूज्य श्री गणेश जी की विधि विधान से पूजा की जाती है। हिंदी पंचाग के अनुसार, दिवाली का त्योहार हर वर्ष कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को मनाया जाता है। इस​ दिन घरों की साफ सफाई की जाती है और दीपक या रोशनी से घरों, मंदिरों और चौराहों को सजाया जाता है। इस वर्ष मलमास के कारण दिवाली का त्योहार बिलंब से आएगी। आइए जानते हैं कि इस वर्ष दिवाली का त्योहार किस तारीख को है, लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त क्या है और दिवाली का महत्व क्या है?

दिवाली में लक्ष्मी पूजा और गणेश आराधना के लिए 24 घंटे में कई प्रकार के मुहूर्त होते हैं। इसमें प्रात:काल मुहूर्त, चौघड़िया मुहूर्त और देर रात में आने वाला निशिता मुहूर्त आदि होते हैं। हर मुहूर्त में माता लक्ष्मी की पूजा का अपना महत्व और उद्देश्य होता है। अधिकतर गृहस्थ चौघड़िया मुहूर्त में ही माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा करना पसंद करते हैं। इस दिन गणेश और लक्ष्मी जी की मूर्तियों के चयन में भी सावधानी बरतनी होती है।

कब है दिवाली 2020

इस वर्ष कार्तिक मास की अमावस्या तिथि 14 नवंबर दिन शनिवार को है। अमावस्या तिथि का प्रारंभ 14 नवंबर को दोपहर में 02 बजकर 17 मिनट से हो रहा है, जो अगले दिन 15 नवंबर को दिन में 10 बजकर 36 मिनट तक है। ऐसे में दिवाली का त्योहार 14 नवंबर को मनाया जाएगा।

लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त

इस वर्ष लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त प्रदोष काल में 1 घंटा 56 मिनट के लिए बन रहा है। दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त शाम को 05 बजकर 28 मिनट से शाम 07 बजकर 24 मिनट के मध्य है। यह मुहूर्त प्रदोष काल की पूजा का है।

निशिता काल में लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त देर रात 11 बजकर 59 मिनट से देर रात 12 बजकर 32 मिनट तक है। 34 मिनट की अवधि में आपको ​लक्ष्मी पूजा संपन्न कर लेनी चाहिए।

इन दो मुहूर्त के अलावा आपको चौघड़िया मुहूर्त पर भी विचार करना चाहिए। दिवाली पर लक्ष्मी पूजा के लिए चौघड़िया मुहूर्त नीचे ​दिया गया है।

दोपहर में लक्ष्मी पूजा मुहूर्त: 02 बजकर 17 मिनट से शाम को 04 बजकर 07 मिनट तक।

शाम में लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त: शाम को 05 बजकर 28 मिनट से शाम 07 बजकर 07 मिनट तक।

रात में लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त: रात 08 बजकर 47 मिनट से देर रात 01 बजकर 45 मिनट तक।

प्रात:काल में लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त: 15 नवंबर को 05 बजकर 04 मिनट से 06 बजकर 44 मिनट तक।

दिवाली का महत्व

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, भगवान राम जब लंका विजय कर पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ वनवास पूरा कर अयोध्या वापस आए थे। तब अयोध्या का हर घर और चौराहा दीपों की रोशनी से जगमग था। हर अयोध्यावासी ने भगवान राम के वनवास से नगर आगमन पर अपने घर को दीपों से सजाया था। तब से हर वर्ष कार्तिक मास की अमावस्या को दिवाली मनाई जाती है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस