पत्‍थर करें समर्पित

कर्नाटक के मांड्या के किरागांदुरू बेविनाहल्ली मार्ग पर 'कोटिकालिना काडू बासप्पा' नाम का एक अनोखा मंदिर है। भगवान शिव के एक स्‍वरूप को समर्पित इस मंदिर में भक्त उन पर पत्थर का चढ़ावा चढ़ाते हैं। मंदिर आने वाले श्रद्धालुओं का कहना है कि भगवान को किसी भी आकार का पत्थर समर्पित किया जा सकता है। यहां प्रार्थना के लिए 3 से 5 पत्थरों का चढ़ावा चढ़ाना होता है। इस अनोखी मान्‍यता के चलते ही मंदिर के बाहर विभिन्न आकार के ढेर सारे पत्थर जमा हो गए हैं।

मंदिर में नहीं है कोई पुजारी

ये मंदिर बैंगलुरु मैसूर राजमार्ग पर मांड्या शहर से करीब 2 किलोमीटर की दूरी पर है। कोटिकालिना काडू बासप्पा मंदिर की एक विशेषता ये भी है कि यहां पूजा करने के लिए कोई भी पुजारी नहीं है। इतना ही नहीं मंदिर का कोई विशेष ढांचा भी नहीं है। यहां आने वाले भक्त ख़ुद ही पूजा करते हैं। इस मंदिर में भगवान शिव की एक मूर्ति स्थापित है, जिन्हें स्थानीय लोगों भगवान काडू के नाम से बुलाते हैं। इस मंदिर की परंपरा है कि जब किसी इंसान की मनोकामना पूरी होती है, तो वो अपने खेत या फिर ज़मीन से पत्थर लाकर यहां चढ़ा देता है।

 

By Molly Seth