शरीर और मन को शुद्घ रखने के लिए पुराने समय में लोग व्रत-उपवास करते थे। व्रत के दौरान वो फलाहार करते थे और आज भी वही परंपरा कायम है। बस फलाहार का स्वरूप थोडा सा बदल गया है। नवरात्र के व्रत में फलाहार के नए स्वाद को चखें सखी के साथ।

साबूदाने की खीर

सामग्री: एक लीटर फुल क्रीम दूध, आधा कप साबूदाना, 150 ग्राम शक्कर, 1/4 कटोरी काजू-पिस्ता, बादाम की कतरन, 3-4 केसर के लच्छे, 1 चम्मच पिसी इलायची, 2 छोटे चम्मच कंडेंस्ड मिल्क

विधि: खीर बनाने से एक-दो घंटे पूर्व साबूदाने को धोकर भिगो दें। अब एक बर्तन में दूध को गरम कर अच्छे से उबलने दें। इसके बाद एक कटोरी में एक छोटा चम्मच गरम दूध लेकर केसर गला दें। अब उबल रहे दूध में भीगा हुआ साबूदाना डाल दें और लगातार चलाते हुए धीमी आंच पर पकाएं। एक अलग कटोरी में कंडेंस्ड मिल्क घोलकर दूध में मिला दें। अब साबूदाने को तब तक पकाएं जब तक कि वह कांच जैसा चमकने न लगे। फिर शक्कर मिलाकर 5-7 उबाल आने तक पकाएं और गैस को बंद कर दें। ऊपर से कटे मेवे, केसर और इलायची पाउडर डालकर अच्छी तरह मिलाएं। अब तैयार साबूदाने की खीर को सर्व करें।

चटपटा फलाहारी उपमा

सामग्री: 1 कटोरी सिका हुआ कुटू का आटा, 1 आलू उबला हुआ, मूंगफली के दाने सिके व पिसे हुए, 1 छोटी चम्मच मोटी सौंफ, 1 चम्मच खडा धनिया, दोनों को मिलाकर मिक्सर में दरदरा पीस लें। 5-6 हरी मिर्च पिसी हुई, सेंधा नमक स्वादानुसार, 3 से 4 चम्मच मूंगफली का तेल, 1 चम्मच छोटा जीरा, 1 चम्मच लाल मिर्च पाउडर, 2 चम्मच शक्कर व हरा धनिया

विधि: सबसे पहले एक कडाही में तेल डालकर गर्म कर उसमें जीरा डालें। जब जीरा अच्छी तरह भुन जाए तो उसमें सिका आटा डालकर थोडी देर चला लें। अब उसमें हरी मिर्ची, नमक, लाल मिर्च पाउडर मिला लें और थोडा पानी डालें। जब थोडा तेल छूटने लगे तब उसमें सौंफ, धनिया, पिसी मूंगफली और शक्कर डालकर थोडी देर चलाएं। अच्छी तरह पकने पर हरा धनिया डालकर

गरमा-गरम परोसें।

मावा-पिस्ता का पेडा

सामग्री: 250 ग्राम खोया, 150 ग्राम शक्कर का बूरा, आधा कटोरी पिस्ता कतरन, पेडे बनाने के लिए (बिस्किट बनाने का सांचा), आधा चम्मच इलायची पाउडर

विधि: सबसे पहले एक कडाही में खोया (मावा) और शक्कर को मिक्स करके कम आंच पर धीरे-धीरे चलाती रहें। इसे तब तक पकाएं, जब तक कि मिश्रण गाढा नहीं हो जाता। अब इस मिश्रण को 10-15 मिनट ठंडा होने के लिए रख दें। ऊपर से इलायची पाउडर और पिस्ता की कतरन डालें। फिर अच्छी तरह मिला कर इस मिश्रण को बिस्किट के सांचे में भरकर हाथ से अच्छी तरह दबा दें। 5-10 मिनट इसे फ्रिज में रखें और सावधानी से पलट कर डिब्बे में भर दें। तैयार खोया-पिस्ता का पेडा पेश करें।

केले के

लजीज पकौडे

सामग्री: चार-पांच कच्चे केले, 150 ग्राम सिंघाडे का आटा, 2-3 बारीक कटी हुई हरी मिर्च, सेंधा नमक, सौंफ, काली मिर्च पाउडर, तलने के लिए घी अथवा मूंगफली का तेल, हरा धनिया

विधि: सबसे पहले केले को छिलके सहित दो टुकडों में काटकर कुकर में उबाल लें। ध्यान रखें कि केले अधिक न पक जाएं। ठंडे होने पर इनके छिलके उतारकर गोल-गोल टुकडे काट कर रख लें। अब एक बर्तन में सिंघाडे का आटा लेकर उसमें स्वादानुसार हरी मिर्च, सौंफ, काली मिर्च पाउडर, नमक मिला दें और गाढा घोल तैयार कर लें। एक कडाही में घी अथवा तेल गरम करके तैयार घोल में केले के टुकडों को लपेटकर तेल में छोड दें और दोनों तरफ से कुरकुरे होने तक तल लें।

पिंडखजूर के रोल

सामग्री : 250 ग्राम पिंड खजूर, 150 ग्राम गरी का बूरा, 100 ग्राम मूंगफली के दाने सिंके हुए, आधा कप तरबूज और खरबूज के बीज, आधा चम्मच पिसी इलायची, पाव कटोरी किशमिश, 100 ग्राम शक्कर का बूरा, पाव कटोरी काजू-बादाम की कतरन

विधि: पिंडखजूर के बीज निकाल लें और उन्हें बारीक टुकडों में काट लें। मूंगफली के दाने मिक्सी में दरदरे बारीककर लें। अब एक थाली में आधा गरी का बूरा लें। उसमें पिंडखजूर, पिसे दाने, तरबूज-खरबूज के बीज, काजू-बादाम की कतरन, शक्कर का बूरा व इलायची डालकर अच्छे से मिक्स करें और मोटी रोटी बेल लें। अब थाली में बचा गरी का बूरा फैला दें। तैयार मिश्रण की रोटी को बूरे में लपेट लें और लंबे-लंबे टुकडों में काट कर किशमिश से सजाकर मेवा-पिंडखजूर के रोल पेश करें।

फलाहारी दही भल्ले

सामग्री: आधा कप पनीर, एक कप सिंघाडे का आटा,1 कप उबले मैश आलू, 1 चम्मच अदरक पिसा हुआ, दरदरे पिसे काजू 1/4 कटोरी, 1 बारीक कटी हरी मिर्च, 2 कप फेंटा दही, सेंधा नमक, शक्कर, जीरा पाउडर, अनारदाने अंदाज से व तलने के लिए पर्याप्त मात्रा में घी

विधि: सबसे पहले पनीर को कद्दूकस करके इसमें आलू, काजू, किशमिश, हरी मिर्च, अदरक व सेंधा नमक मिला लें। उसके छोटे-छोटे गोले बना लें। अब सिंघाडे के आटे का घोल बनाएं। बडों को इस घोल में डुबोकर गरमा-गरम घी में सुनहरे तल लें। दही में शक्कर मिला लें। अब एक प्लेट में भल्ला परोस कर दही, जीरा पाउडर व अनारदाने से सजाकर

पेश करें।

लौकी का

शाही हलवा

सामग्री: 250 ग्राम ताजी लौकी (घीया), एक चम्मच घी, 1 चम्मच इलायची पाउडर, डेढ कप खोपरा, 1 कप मेवे की कतरन, स्वादानुसार गुड।

विधि: सबसे पहले लौकी को छीलकर कद्दूकस कर लें। एक कडाही में घी गरम करके उसमें कसी हुई लौकी डालें और धीमी आंच पर अच्छी तरह सेंक लें। अब गैस की दूसरी ओर किसी बरतन में थोडा-सा गरम पानी रख दें। गुड को फोडकर बारीक चूरा कर लें। अब गरम पानी को लौकी में अपनी जरूरत के अनुसार डालें। ऊपर से गुड भी डाल दें। कुछ देर अच्छी तरह मिलाएं। गाढा होने पर इलायची पाउडर, खोपरा बूरा डालकर मिला लें। ऊपर से मेवे की कतरन डालकर गरमा-गरम लौकी-गुड का शाही हलवा पेश करें।

फ्रूट्स का मालपुआ

सामग्री: 1 केला, 1 सेब, 1/2 कटोरी पपीते का गूदा (सब कद्दूकस करके मैश किए हुए), एक कटोरी सिंघाडे का आटा, 1 कटोरी शक्कर, 1/2 कटोरी कटे मेवे, 1/2 चम्मच इलायची पाउडर, देसी घी

विधि: पहले सभी फलों को अच्छी तरह से मैश करें। आटे को छानकर उसे भी फल में मिला लें। अब शक्कर व बाकी सभी सामग्री मिलाकर घोल तैयार करें। नॉनस्टिक पैन में घी गरम कर चम्मच से घोल डालें। मालपुआ बनाकर दोनों तरफ से सेंकें। अब गरमा-गरम मालपुओं को सर्व करें।

सिंघाडे के स्वादिष्ट लड्डू

सामग्री: 200 ग्राम सिंघाडे का आटा, 100 ग्राम कुटू का आटा, 300 ग्राम शक्कर, 200 ग्राम देसी घी, पिसी हुई इलायची, गरी के छोटे-छोटे टुकडे, काजू, बादाम

विधि: सबसे पहले सिंघाडे व कुटू के आटे को धीमी आंच पर घी डालकर सेंक लें। ख्ाुशबू आने लगे तब शक्कर पीसकर उसमें मिला दें। इलायची, गरी, काजू, बादाम भी मिला दें। गरम-गरम ही लड्डू बना लें, नहीं बंधने पर थोडा घी और मिलाएं, फिर लड्डू बनाएं। यह स्वादिष्ट होने के साथ ही पौष्टिक भी होते हैं।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप