मोटापे से परेशान लोगों के लिए यह खबर राहत देने वाली हो सकती है। हॉलैंड में हुए एक शोध में कहा गया है कि मोटापा हमेशा बुरा ही नहीं होता। मोटे दिखने वाले लोग भी स्वस्थ रह सकते हैं, बशर्ते वे नियमित व्यायाम करें। एक्सरसाइज से मोटे लोगों में हार्टअटैक का खतरा बेहद कम हो जाता है। इस शोध में पाया गया है कि मिडिल एज में व्यायाम का नियम बनाने वालों के लिए मोटापा परेशानी का सबब नहीं रह जाता है। शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि ऐसा जरूरी नहीं है कि मोटापे का संबंध हमेशा बीमारी से ही हो। विशेषज्ञों का कहना है कि शारीरिक बनावट से इतर नियमित व्यायाम करने से दिल का दौरा पडऩे या आघात का खतरा नहीं के बराबर रह जाता है। शोधकर्ताओं ने इस नतीजे पर पहुंचने के लिए 5300 लोगों के आंकडों का आकलन किया। इन सभी की उम्र 55 वर्ष या उससे अधिक थी। इन्हें 15 वर्र्षों तक डॉक्टर्स की निगरानी में रखा गया। विशेषज्ञों ने देखा कि जो लोग अत्यधिक मोटे और सुस्त थे, उनमें दिल संबंधी बीमारियों का खतरा मोटे मगर सक्रिय लोगों के मुकाबले तीन गुना तक अधिक था। यानी शारीरिक सक्रियता और व्यायाम भले ही किसी को मोटापे से न बचाएं लेकिन हार्ट अटैक जैसे खतरे से अवश्य बचा सकते हैं।

डॉक्टर की राय अच्छा भोजन और एक्सरसाइज हेल्दी लाइफ के लिए बेहद जरूरी है। ऐसा करने से आप फिट रहते हैं और जब फिट रहेंगे तो आपको किसी तरह की बीमारी की आशंका भी न के बराबर रहेगी। इसके लिए जरूरी है कि आप अपने शरीर की जरूरतों और मांग को समझें। ध्यान रखना जरूरी है कि हर तरह की एक्सरसाइज सबके लिए नहीं होती। जरूरी है कि आप किसी विशेषज्ञ से ट्रेनिंग लें या सप्ताह में कम से कम पांच दिन अलग-अलग एक्सरसाइज करें ताकि शरीर का हर हिस्सा ऐक्टिव रह सके। कोई बीमारी हो तो पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।