आपको शांत और बोझिल लाइफस्टाइल पसंद नहीं है तो आपको जुंबा बहुत अच्छा लगेगा। लैटिन म्यूजिक और सालसा, फ्लेमिंको, मरिंग, रेगेटन जैसे डांस से प्रेरित मूव्स पर थिरकने से आप खुद को रोक नहीं पाएंगे। जुंबा को आप घर पर म्यूजिक लगाकर भी आसानी से कर सकते हैं, लेकिन बेहतर यही होगा कि क्लासेज जॉइन करके इसके बेसिक मूव्स सीख लें। जुंबा न सिर्फ वजन कम करने का एक तेज तरीका है, बल्कि यह मांसपेशियों को भी मजबूत बनाता है। यह एरोबिक्स कैटेगरी के एक्सरसाइज में भी शुमार होता है। इसे नियमित तौर पर करने से हार्ट डिजीज, ओबेसिटी, थायरॉयड आदि बीमारियों की आशंका कम हो जाती है। चूंकि इसे म्यूजिक के साथ किया जाता है, इसलिए इससे शरीर में ताजगी का एहसास तो होता ही है, हम स्ट्रेस फ्री भी हो जाते हैं। जानें, जुंबा के कुछ प्रमुख व्यायामों के बारे में। मेरेन मेरेन करते वक्त पैरों को थोडा ऊपर उठाते हुए शोल्डर और हिप्स को धुन पर घुमाया जाता है। इससे हिप्स, पैर और पेट की मांसपेशियों का व्यायाम होता है। मेरेन कर आप जल्दी फिट हो जाएंगी। सालसा सालसा में वन और टू, थ्री और फोर की गिनती शामिल होती है, जैसे ही आपका दाहिना पैर वन पर आगे जाता है, बायां पैर अंदर उस जगह पर आ जाता है। दाहिना पैर टू पर अंदर चला जाता है। थ्री और फोर पर इसी प्रक्रिया को बायीं तरफ दोहराया जाता है। सालसा कार्डियो एक्सरसाइज की तरह ही है, यह शरीर के हर भाग का समुचित व्यायाम कराता है। कुंबिया कुंबिया एक कोलंबियन लोकनृत्य है, यह आपकी सहनशक्ति बढाता है। यह हिप-हॉप और लैटिन का मिश्रण है। इससे कार्डियो वर्कआउट होता है। शुरुआती टिप्स अगर आपको किसी भी प्रकार का कोई दर्द या सांस की बीमारी है तो जुंबा क्लास को शुरू करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें। जुंबा डांस को कम से कम 45 मिनट करना अनिवार्य है। अगर आप इससे कम देर करते हैं तो इसका मतलब है कि आपने सिर्फ वॉर्म अप ही किया है। जुंबा को गु्रप में करने से आपको ज्य़ादा मजा आएगा। एक नजर जुंबा सेशन से पहले और बाद में अच्छी तरह वॉर्म अप और कूल डाउन करें। शरीर की सहन क्षमता के अनुसार ही इसका लुत्फ उठाएं। अपने साथ वाले व्यक्ति की नकल करने या ज्य़ादा प्रैक्टिस करने की जरूरत नहीं है। मूव्स को अच्छी तरह समझ लें कि कब ट्विस्ट करना चाहिए और कब टर्न लेना चाहिए। जब तक आप अनुभवी न हो जाएं, डीवीडी या विडियो गेम्स के जरिये प्रैक्टिस न करें। किसी अच्छे ट्रेनर या इंस्ट्रक्टर की निगरानी में ही जुंबा की प्रैक्टिस करें। फायदे भी हैं बहुत किसी अन्य डांस शैली से ज्य़ादा जुंबा शरीर के लचीलेपन को बढाता है। यह शरीर के अंदरूनी संतुलन, समन्वय और तालमेल को भी दुरुस्त रखता है। कैलरी बर्न करने और प्रभावी कार्डियो-वैस्कुलर वर्कआउट के अलावा यह शारीरिक संतुलन सुधारने का एक मजेदार जरिया है और साथ ही यह आपके ब्लड प्रेशर और दिल को भी दुरुस्त रखता है। 45 मिनट की जुंबा प्रैक्टिस प्रति मिनट लगभग 10 कैलरी तक बर्न करती है। बच्चों के लिए जुंबा शारीरिक और मानसिक विकास के तौर पर काम करता है। इसके साथ ही यह उनमें परिपक्वता और टीम भावना को भी बढाता है। शहरों के स्कूली बच्चे इन दिनों खेल के लिए शायद ही वक्त निकाल पाते हैं, लेकिन यह डांस शैली बच्चे को मोटापे से निजात दिलाने में मददगार साबित हो सकती है। सवाल: जुंबा एरोबिक्स करने से कितनी कैलरी बर्न की जा सकती हैं? जवाब: जुंबा डांस करने से वजन जरूर घटता है क्योंकि इसकी एक क्लास करने से आप लगभग 500 से 800 कैलरीज बर्न कर सकती हैं। ध्यान रखें, इससे थकान महसूस हो सकती है। सवाल: जुंबा को एरोबिक्स से जोडा गया है? ये बात कितनी सही है। जवाब: जुंबा व्यायाम एरोबिक्स का मिश्रण है। इसलिए जुंबा को एरोबिक्स की कैटेगरी में ही रखा जाता है। इसे करने से पहले ब्रीदिंग एक्सरसाइज जरूर करें। सवाल: कब करें जुंबा एरोबिक्स? जवाब: मोटापा कम करने के अलावा जुंबा डांस एक फिटनेस प्रोग्राम है। जुंबा के मूवमेंट शरीर के हर पार्ट पर जोर देते हैं, जिससे वह हिस्सा टोंड होने लगता है। इसलिए जुंबा रोज करें ताकि आप जल्दी स्लिम हो जाएं। सवाल: किस तरह के डांस फॉर्म से वजन जल्दी कम किया जा सकता है? जवाब: जी हां, यह बात सच है कि कई तरह के डांस वर्कआउट सही रिजल्ट नहीं देते क्योंकि वे सामान्य होते हैं। जिम की तरह आप सालसा डांस के सेशन को अपनी जरुरत के अनुसार नहीं कर सकते हैं। डांस करने से पूरे शरीर का वजन कम होगा, जबकि जिम में केवल कमर, थाइज और हिप्स का ही वजन कम किया जा सकता है। आप मनचाहे तरीके से और जरुरत के अनुसार जुंबा डांस को ढाल सकते हैं लेकिन इसके लिए किसी एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। जुंबा कई नृत्य शैलियों का संयोजन है- जैसे सालसा, मैंबो, जिप्सी का रोमांस, चा चा चा, सांबा, बेली डांसिंग, भांगडा, हिप-हॉप, टैंगो आदि। गीतांजलि (पारस ब्लिस हॉस्पिटल, पंचकुला के जुंबा इंस्ट्रक्टर सन्नी तांता से बातचीत पर आधारित) एक्सपर्ट कॉर्नर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप