उदयपुर, संवाद सूत्र। राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले में रविवार को बड़ा हादसा होते-होते बच गया। सामने से आ रही दूसरी कार को बचाने के प्रयास में चित्तौड़गढ़ विधायक की कार जैसे ही सड़क से उतारी, तभी कार का टायर फट गया। चालक से हादसे के बावजूद कार को नियंत्रण में ले लिया, नहीं तो कार सड़क से लगभग आठ फीट नीचे लुढ़क जाती। कार में उस समय चित्तौड़गढ़ विधायक चंद्रभान सिंह आक्या, रेवदर विधायक जगसीराम कोली तथा रानीवाड़ा विधायक नारायण सिंह देवल मौजूद थे और तीनों ही भाजपा विधायक प्रतापगढ़ में पार्टी की बैठक में भाग लेने जा रहे थे। हादसे में तीनों ही विधायक बाल-बाल बच गए तथा घटना के बाद बुलाई दूसरी कार से वह प्रतापगढ़ की ओर रवाना हो गए। घटना की जानकारी मिलने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी विधायकों से बात कर हाल-चाल जाना।

हादसा निम्बाहेड़ा क्षेत्र के सगवाड़िया गांव के पास हुआ। चित्तौड़गढ़ विधायक चन्द्रभान सिंह आक्या, रानीवाड़ा विधायक नारायण सिंह देवल व रेवदर विधायक जगसीराम कोली प्रतापगढ़ जिला मुख्यालय पर आयोजित भाजपा की बैठक में भाग लेने निकले थे। सगवाड़िया के पास सामने से आ रही गाड़ी को बचाने के चक्कर में विधायक के चालक ने गाड़ी को सड़क से जैसे ही नीचे उतारा, तभी उनकी कार का टायर फट गया। अचानक अनियंत्रित हुई कार में सभी विधायक भयभीत हो गए थे, लेकिन चालक ने कुशलतापूर्वक कार को नियंत्रण में ले लिया। हालांकि जहां हादसा हुआ, वहां सड़क तथा खेतों की ऊंचाई में आठ फीट का अंतर है। यदि कार नियंत्रण में नहीं आती को वह खेतों में लुढ़कती चली जाती। हादसे में किसी को चोट नहीं लगी। घटना के बाद दूसरी कार से तीनों विधायक प्रतापगढ़ की ओर रवाना हो गए। हादसे की सूचना जैसे ही सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना, पूर्व विधायक सुरेंद्र सिंह जाड़ावत तथा पूर्व मंत्री श्रीचंद कृपलानी को मिली तो उन्होंने तीनों विधायकों को फोन कर उनसे हालचाल जाना। पूर्व विधायक जाड़ावत ने हादसे की सूचना मुख्यमंत्री को भी दी, जिस पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी फोन कर विधायकों से बात की।  

Edited By: Sachin Kumar Mishra