उदयपुर, संवाद सूत्र। देश भर में चर्चित रहे कन्हैयालाल हत्याकांड के मुख्य गवाह राजकुमार शर्मा को ऑपरेशन के तीन दिन बाद गुरुवार को हलचल देखी गई। हालांकि, उसके होश में आने में अभी समय लगेगा। जांच में पता चला कि उसकी किडनी में संक्रमण फैल चुका है। राजकुमार यहां उदयपुर के आरएनटी मेडिकल कॉलेज के सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में भर्ती है।

कन्हैयालाल हत्याकांड के गवाह की हालत में मामूली सुधार

मिली जानकारी के अनुसार, कन्हैयालाल हत्याकांड के गवाह राजकुमार शर्मा (50) की हालत में मामूली सुधार रहा। उसके दाहिने हाथ और पैर में मूवमेंट है, किन्तु बायां हिस्सा लकवाग्रस्त होने के चलते उसमें हलचल नहीं है। ब्रेन हेमरेज के ऑपरेशन के बाद खून का रिसाव भी रुक गया है। सीटी स्कैन रिपोर्ट के मुताबिक अब कोई नया ब्लड क्लॉट नहीं है। चिकित्सकों के मुताबिक, राजकुमार की किडनी फंक्शन में कुछ परेशानी सामने आई है। शरीर में क्रिएटिनिन का स्तर बढ़कर 4.5 तक पहुंच गया, जबकि सामान्य तौर पर यह 1.1 से भी कम होना चाहिए।

राजकुमार की हालत स्थिर

बता दें, सोमवार को ब्रेन हेमरेज का आपरेशन सफल रहने के बाद राजकुमार की हालत स्थिर बनी हुई है। उसके होश में आने में कितना समय लगेगा, फिलहाल कुछ कहा नहीं जा सकता। हो सकता शुक्रवार को उसे होश आ जाए या और अधिक दिन लग सकते हैं। उसके पूरी तरह स्वस्थ होने को लेकर चिकित्सकों का कहना है कि अभी यह जल्दबाजी होगी। इसमें महीनों लग सकते हैं।

उल्लेखनीय हे कि गत सोमवार को उसकी तबीयत खराब होने पर यहां महाराणा भूपाल अस्पताल में भती कराया था। उसके ब्रेन हेमरेज होने पर तत्काल सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में शिफ्ट कर दिया गया। इसका पता चलते ही उदयपुर के जिला प्रभारी मंत्री और राजस्थान सरकार के राजस्व मंत्री रामलाल जाट अस्पताल पहुंचे और उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को इसकी जानकारी दी।

अगले 48 घंटे राजकुमार के लिए बेहद चिंताजनक

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तत्काल जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल से दो विशेषज्ञ डॉक्टरों को ग्रीन कॉरिडोर बनाकर भेजा था और उन्होंने रात दस बजे से राजकुमार का ऑपरेशन किया, जो चार घंटे तक चला। उन्होंने कहा था कि अगले 48 घंटे राजकुमार के लिए बेहद चिंताजनक हैं।

आर्थिक स्थिति खराब होने पर अवसाद में था

उल्लेखनीय है कि इसी साल 28 जून को मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद ने दिनदहाड़े कन्हैयालाल की उसकी टेलर की दुकान पर जाकर उसका बेरहमी से गला काटकर हत्या कर दी। उस समय राजकुमार शर्मा और ईश्वर लाल वहां मौजूद थे, जो कन्हैयालाल की दुकान पर कपड़ों की सिलाई करते थे। दोनों ने कन्हैयालाल को बचाने की कोशिश की और हत्यारों ने इन पर भी हमला किया और वे घायल हो गए थे। उपचार के बाद राजकुमार शर्मा पिछले तीन महीनों से घर पर था। उसकी सुरक्षा में पुलिस के जवान तैनात थे औेर वह काम नहीं कर पा रहा था। आर्थिक स्थिति खराब होने पर वह अवसाद में चल रहा था।

हत्यारों ने वारदात का लाइव वीडियो जारी किया था

उल्लेखनीय है कि कन्हैयालाल की हत्या का लाइव वीडियो भी हत्यारों ने इंटरनेट मीडिया पर वायरल किया और बाद में एक और वीडियो जारी कर उसमें हत्या की जिम्मेदारी ली। पुलिस ने कुछ घंटों में राजसमंद जिले से दोनों को गिरफ्तार कर लिया, जब वह अजमेर जाने वाले थे। इस मामले की जांच एनआईए ने अपने हाथों में ले रखी है और इस मामले में एनआईए नौ आरोपितों को गिरफ्तार कर चुकी है।

पहले धमकी दी थी फिर सर कलम कर दिया

गौरतलब है कि भाजपा की प्रवक्ता रही नुपूर शर्मा के बयान को कन्हैयालाल के बेटे के लाइक और शेयर करने के बाद मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद ने पहले उसे सर कलम करने की धमकी दी थी और जिस दिन वह अपनी दुकान पर पहुंचा उसी दिन उसका सर कलम कर दिया।

Edited By: PRITI JHA

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट