जागरण संवाददाता, जयपुर। राजस्थान में चूरू जिले के साहवा गांव के 20 वर्षीय युवक को मोबाइल की ऐसी लत लगी कि वह अब मानसिक रोगी हो गया है। युवक पांच दिन तक बिल्कुल नहीं सोया है। बस कभी मोबाइल पर गेम खेलता रहा तो कभी फिल्म देखी। वह अब न तो अपने स्वजन को पहचान रहा है और न ही कुछ बोल पा रहा है। तबीयत ज्यादा बिगड़ी तो चूरू के राजकीय भरतिया अस्पताल के आपातकालीन वार्ड में उसको भर्ती कराया गया है।

युवक के चाचा अरबाज ने बताया कि 20 वर्षीय अकरम गांव में ही बिजली की मोटर वाइडिंग का काम करता था। करीब दो माह से वह दिन-रात मोबाइल पर समय बिताने लगा था। उसको मोबाइल की ऐसी लत लगी कि उसने कामधंधा छोड़ दिया ।

पिछले 15 दिनों से खाना-पीना भी पूरी तरह से कर दिया था बंद

स्वजन के मना करने के बावजूद वह मोबाइल को नहीं छोड़ता था। सुबह से लेकर रात और फिर अगले दिन सुबह तक वह गेम खेलता रहता था। उसने खाना-पीना छोड़ दिया था। पहले तो वह मोबाइल का उपयोग करते हुए खाना खाता था, पानी पीता था, लेकिन पिछले 15 दिन से तो उसने खाना-पीना भी पूरी तरह से बंद कर दिया था।  अकरम पांच दिन से बिल्कुल नहीं सोया। रात में स्वजन के सोने के बावजूद वह मोबाइल का उपयोग करता रहता था। वह मानसिक रोगी जैसी हरकतें करने लगा था। इस पर 26 नवंबर को उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

अस्पताल के मानसिग रोग विशेषज्ञ डा. जितेन्द्र कुमार ने बताया कि अकरम का सिटी स्केन कराया गया। इसके साथ ही कुछ और जांचें भी कराई गई हैं। उसकी स्थिति मानसिक रोगी जैसी ही है। उसका उपचार शुरू किया गया है। उन्होंने बताया कि मोबाइल पर ज्यादा समय गुजारने से मानसिक रोग होने की संभावना ज्यादा रहती है।