जयपुर, [जागरण संवाददाता]। फिल्म अभिनेता सलमान खान से जुड़े 19 वर्ष पुराने जोधपुर के कांकाणी हिरण शिकार मामले को लेकर जोधपुर जिला  ग्रामीण  मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट कोर्ट में गुरूवार को भी सुनवाई अधूरी रही। जज देव कुमार खत्री के समक्ष सलमान खान के अधिवक्ता हस्तीमल सारस्वत अंतिम बहस पूरी नहीं कर सके ।

सारस्वत ने बहस के दौरान कहा कि गवाहों के बयान परस्पर विराधाभाषी है,उन्होंने पुलिस की पूरी कार्यवाही को फर्जी बताया । इस मामले में इन दिनों नियमित बहस चल रही है । अंतिम बहस के दौरान सारस्वत ने बुधवार को कहा था कि गवाह पूनमचंद ने कोर्ट में बहस के दौरान इस बात से इंकार किया था कि उसने घटनास्थल पर काले हिरणों के शव के पास गोली देखी। उन्होंने कहा कि अभियोजन पक्ष ने अपनी चार्जशीट में  पूनमचंद द्वारा उप वन संरक्षक के आवास पर रात 9:15 बजे हिरण शिकार की रिपोर्ट देने की बात कही थी।

वहीं पूनमचंद ने बहस के दौरान बताया था कि उसने दोपहर 2 बजे रिपोर्ट दी थी। इस तरह कई बयान विरोधाभाषी है। उल्लेखनीय है कि फिल्म हम साथ-साथ है कि शूटिंग के दौरान 1 और 2 अक्टूबर 1998 की मध्यरात्रि को जोधपुर जिले के कांकाणी गांव की सीमा पर दो काले हिरणों का शिकार हुआ था । सलमान खान पर शिकार करने के आरोप लगे । उस दौरान उनके साथ जिप्सी में अभिनेता सैफ अली खान,नीलम,सोनाली बेन्द्रे और तब्बू साथ थे । 

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस