जागरण संवाददाता, जयपुर। राजस्थान के मेवात क्षेत्र से गोमांस को पैक कर देश-विदेश में भेजे जाने की बात सामने आई है। गोमांस की पैकिंग इस तरह से की जाती है, जिससे बाहर से घी अथवा पनीर का डिब्बा लगे। मेवात के विभिन्न क्षेत्रों में गायों का वध कर मांस बेचने के काम में राज्य के बाहर के लोग भी लगे हुए हैं। इनमें हरियाणा, आंध्र प्रदेश और बिहार के लोग शामिल हैं। यह खुलासा अलवर पुलिस की कार्रवाई में पकड़ी गई तीन महिलाओं और एक पुरुष से की गई प्रारंभिक पूछताछ में हुआ है।

अलवर जिले के गोविंदगढ़ थाना पुलिस ने सोमवार को कार्रवाई करते हुए एक घर से 60 किलो गोमांस और गाय की खाल के साथ तीन महिलाओं को गिरफ्तार किया है। पुलिस थानाधिकारी दारा सिंह ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर पुलिस टीम ने सोमवार रात जाटव मोहल्ला स्थित, बड़बरा रोड पर दबिश दी। वहां से गाय की खाल व 60 किलो गोमांस बरामद कर अकबरी पत्नी खलील, भूरी पत्नी शकील और सजीना पत्नी समीम को गिरफ्तार किया है। वहीं, दो लोग फरार हो गए। इनमें से एक को मंगलवार शाम को गिरफ्तार कर लिया गया।

उन्होंने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली थी कि खलील कसाई के घर से गोमांस को पॉलीथिन की थैली में पैक कर बेचने के लिए कहीं ले जाया जा रहा है। सूचना पर दबिश देकर घर की तलाशी ली गई। पूछताछ में आरोपित अकबरी ने बताया कि उसका बेटा शकील उर्फ शाकीर और उसके दोस्त सत्तार जंगल में गाय की हत्या करके गोमांस को बेचने के लिए घर लाए थे। पुलिस की कार्रवाई से ठीक पहले ये दोनों फरार होने में कामयाब हो गए। हालांकि शकील उर्फ शाकीर को मंगलवार शाम को गिरफ्तार कर लिया गया। तीनों महिलाओं और शाकीर ने पुलिस को बताया कि अलवर व भरतपुर के मेवात में उनके कई रिश्तेदार गोमांस पैक कर बेचने का काम कर रहे हैं।

गृहमंत्री बोले, यह काम गलत है
राज्य के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने गोवंश की तस्करी और गोमांस की बिक्री को गलत बताते हुए कहा कि इस मामले में पुलिस अपना काम कर रही है। आरोपितों को कड़ी से कड़ी सजा मिलेगी। उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति को किसी की धार्मिक भावना को ठेस नहीं पहुंचानी चाहिए।

पुलिस अधीक्षक ने कहा, कई खुलासे होंगे
अलवर जिला पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र सिंह ने बताया कि गिरफ्तार की गई तीनों महिलाओं से पूछताछ में कई अहम खुलसे हुए हैं। पुलिस की कार्रवाई से पहले फरार हुए शकील और सत्तार की तलाशी के लिए अलग-अलग क्षेत्रों में टीम भेजी गई थी, इनमें से शकीज को गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने बताया कि अगले एक-दो दिन में इस मामले में कई अहम खुलासे हो सकते हैं।

विधायकों ने कहा, गोतस्करों को फांसी की सजा हो
अलवर जिले के दो भाजपा विधायक ज्ञानदेव आहूजा और बनवारी लाल सिंघल ने मीडियाकर्मियों से बातचीत में कहा कि गो हत्या और गो मांस बेचने के धंधे में लगे लोगों को फांसी की सजा होनी चाहिए। इन्हें आतंकी घोषित किया जाना चाहिए।

Posted By: Babita