जयपुर, जागरण संवाददाता । पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सलामती के लिए राजस्थान में दुआओें का दौर चल रहा है। अजमेर स्थित ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह में गुरुवार को वाजपेयी की सलामती के लिए दुआ की गई । वहीं तीर्थनगरी पुष्कर में भी वाजपेयी के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना के साथ पूजा अर्चना की गई। अटल बिहारी वाजपेयी का ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह से गहरा नाता रहा है।

हालांकि वे कभी व्यक्तिगत रूप से दरगाह शरीफ में हाजिरी के लिए नहीं आए, लेकिन दरगाह में हर साल होने वाले उर्स के मौके पर उनकी ओर से चादर पेश की जाती रही है, जिसमें वे देश दुनिया के जायरीन को अमन चैन और खुशहाली का संदेश देते हैं।

वाजपेयी के जल्द सेहतमंद होने के लिए खादिमों और जायरीन ने दुआ की। वाजपेयी का तीर्थ नगरी पुष्कर से भी पुराना नाता रहा है । वाजपेयी तीर्थ नगरी पुष्कर का कई बार दौरा कर चुके हैं। अब जब उनकी हालत बेहद नाजुक बनी हुई है तो हर कोई उनके लिए यह कामना कर रहा है कि वे जल्द स्वस्थ हो और उनकी लंबी आयु हो। इसके लिए पवित्र सरोवर पर पूजा कर दूध अभिषेक करने के साथ ही ब्रहमा मंदिर में भी पूजा-अर्चना की गई।

जब वाजपेयी ने पवित्र सरोवर में लगाई छलांग

पुष्कर के पुरोहितों ने बताया कि एक बार जब वाजपेयी यहां आए तो उन्होंने पूछा कि क्या इस पवित्र सरोवर की पूजा अर्चना होती है। जब उन्हें बताया गया कि इस पवित्र सरोवर की पूजा अर्चना के साथ ही इसमें स्नान भी किया जाता है, जिससे पुण्य की प्राप्ति होती है। इतना कहते ही वाजपेयी ने कपड़े खोलकर पवित्र सरोवर में छलांग लगा दी । उस दृश्य को आज भी यहां के पुराने पुरोहित याद करते हैं।

 पोखरण में भी की जा रही शीघ्र स्वस्थ्य होने की कामना

सीमावर्ती जिले जैसलमेर के पोखरण में वाजपेयी के शीघ्र स्वास्थ्य की कामना की जा रही है । पोखरण फायरिंग रेंज में 11 मई,1998 को हुए परमाणु परीक्षण के समय वाजपेयी और तत्कालीन रक्षामंत्री जार्ज फर्नाडिस यहां आए थे । उस दिन को याद करते हुए पोरखरण के रेतीले धोरों में रह रहे लोग वाजपेयी के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की जा रही है । यहां के लोगों ने महामृत्यंजय मंत्र और हनुमान चालिसा के पाठ प्रारम्भ किए है ।  

Posted By: Preeti jha