जागरण संवाददाता, जयपुर। राजस्थान सरकार ने शिक्षक दिवस पर गुरुवार को शिक्षकों को बड़ा तोहफा दिया है। शिक्षक दिवस पर जयपुर के बिड़ला सभागार में सम्पन्न राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सम्मानित होने वाले शिक्षकों को अपने गृह नगर में आवासीय भूखंड और रोडवेज बसों में नि:शुल्क यात्रा की सुविधा देने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि शिक्षा व स्वास्थ्य दो ऐसे पवित्र माध्यम हैं, जिनसे सेवाभावना जुड़ी हुई है। उन्होंने कहा कि निजी स्कूल शिक्षा को कमाई का साधन नहीं बनाएं। शिक्षा के मंदिर न लाभ न हानि के सिद्धांत पर संचालित होने चाहिए।

उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्य की बात है तो अंग्रेजी के नाम पर चल रहे निजी स्कूलों की फीस इतनी अधिक है कि गरीब परिवार के बच्चे तो उनमें पढ़ने की सोच भी नहीं सकते हैं। उन्होंने निजी स्कूलों से गरीब परिवारों के बच्चों को पढ़ाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि सरकार सरकारी स्कूलों का स्तर सुधारने में जुटी है। पहले चरण में तय किया गया है कि प्रत्येक जिले में एक-एक अंग्रेजी माध्यम का स्कूल खोला जाएगा। यह प्रयोग सफल रहने पर इन स्कूलों की संख्या बढ़ाई जाएगी। उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार में आरटीआइ, शिक्षा का अधिकार, मनरेगा तथा खाद्य सुरक्षा जैसे बड़े निर्णय लिए गए। लेकिन अब इन सभी कानूनों को कमजोर करने का काम किया जा रहा है।

गहलोत ने कहा कि मैंने अपने पिछले कार्यकाल में सूचना के अधिकार का कानून बनाया था। इस कानून को मजबूत बनाए रखना सरकार की जिम्मेदारी है। समारोह में शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी और शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने भी संबोधित किया। समारोह में 117 शिक्षकों को सम्मानित किया गया।

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस