उदयपुर, जेएनएन। Rajasthan Panther attacked जिले के सलूम्बर उपखंड क्षेत्र के खरका गांव में बुधवार दोपहर एक पैंथर (तेंदुआ) ने सलूम्बर के तहसीलदार तथा पांच अन्य ग्रामीणों पर हमला कर दिया। इनमें से तीन को सलूम्बर के उपखंड अस्पताल में भर्ती कराया गया । सूचना पर कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य और पूर्व सांसद रघुवीरसिंह मीणा, वरिष्ठ नेता परमानंद मेहता आदि मौके पर पहुंचे। घटना के समय कांग्रेस नेता पास के डाल गांव में थे।

वन विभाग की टीम देर तक घटना स्थल पर नहीं पहुंची और ग्रामीण भयभीत थे। पता चला है कि बुधवार सुबह अजमेर जिले में एक अन्य तैंदुए के फंदे में फंसने की सूचना पर विभागीय शूटर सतनामसिंह तथा टीम वहां के लिए रवाना हो गई थी। उसके लौटने का इंतजार किया जा रहा था।

मिली जानकारी के अनुसार सलूम्बर उपखंड में सलूम्बर-भींडर के बीच ईडाणा माता मंदिर से पहले खरका गांव में पैंथर के आबादी क्षेत्र में आने की सूचना मिली। पता चला कि उसने तीन ग्रामीणों पर हमला कर दिया। जिस पर तहसीलदार नारायण जीनगर तथा उपखंड अधिकारी मणिलाल खरका पहुंचे। नारायणलाल जब ग्रामीणों से बातचीत करते हुए उस जगह पहुंचे जहां पैंथर के मौजूदगी की जानकारी मिली। तभी झाडिय़ों में छिपे बैठे पैंथर ने तहसीलदार पर हमला कर दिया। साथ ही दो अन्य ग्रामीण भी पैंथर के हमले में घायल हो गए। बड़ी संख्या में ग्रामीणों के शोर मचाने पर पैंथर पहाड़ी पर भाग निकला।

बतायागया कि घटना दिन दोपहर दो बजे की है तथा देर शाम तक वन विभाग की टीम मौके पर नहीं पहुंची। पैंथर के ग्रामीणों तथा तहसीलदार पर हमले की सूचना मिलते ही डाल गांव में मौजूद पूर्व सांसद रघुवीरसिंह मीणा, वरिष्ठ नेता एडवोकेट परमानंद मेहता, ब्लॉक अध्यक्ष लक्ष्मणसिंह, जिला उपाध्यक्ष नारायणलाल भोर्ठ, किशनसिंह चूंडावत, रोहित भट्ट, सरपंच नगाराम मीणा आदि अस्पताल पहुंचे तथा उनकी कुशलछेम पूछी। मेहता ने बताया कि तहसीलदार तथा दो अन्य ग्रामीणों को उपचार के बाद घर जाने दिया गया, जबकि तीन ग्रामीण अस्पताल में भर्ती हैं। 

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस