उदयपुर, जेएनएन। Rajasthan News: नवरात्रि पर्व पर कन्याओं की पूजा और उनको भोजन की परम्परा तो आमतौर पर देखी जाती है। इस बार नवरात्र पर उदयपुर में पांच सौ से भी अधिक दिव्यांग कन्याओं के जीवन की गति बदलने वाली है। ये दिव्यांग कन्याएं देश भर से आई हैं और उनका निःशुल्क ऑपरेशन उदयपुर की नारायण सेवा संस्थान के अस्पताल में किया गया। उनकी दिव्यांगता मिटाने के लिए उन्हें वे सभी उपकरण फ्री में दिए गए हैं, जो उनके उन्मुक्त होकर चलने में सहायक साबित होंगे।

उदयपुर के नारायण सेवा संस्थान के अस्पताल में इन नौ दिनों में देश भर की 501 दिव्यांग कन्याओं के निःशुल्क ऑपरेशन किए गए। यह कन्हैया राजस्थान सहित देश के 20 प्रांतों से आई हुई थीं। यही नहीं, संस्थान ने इनके रहने-खाने के ही नहीं, बल्कि इनकी देखभाल के लिए आए परिजनों के रहने-खाने का बंदोबस्त भी फ्री किया हुआ है।

संस्थान अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल बताते हैं कि यहां आने वाले रोगियों और उनके परिजनों को लाने तथा उन्हें छोड़ने के लिए रेलवे स्टेशन और बस स्टैण्ड के लिए संस्थान की ओर से फ्री बस सेवा भी जारी है, जो साल भर चलती है। संस्थान दिव्यांगजन के शिक्षण-प्रशिक्षण, चिकित्सा ही नहीं, बल्कि उनके पुनर्वास की भी व्यवस्था भी करती है।

जिन दिव्यांग कन्याओं के ऑपरेशन इन नौ दिनों में किए गए, उन्हें इस महीने के अंत तक छुट्टी मिल जाएगी और वे सभी बिना किसी के सहारे चल पाएंगी। इस बीच उन्हें रोजगार परक भी शिक्षा संस्थान देता है, ताकि वह यहां से जाने के बाद अपने पूरी तरह अपने पैरों पर खड़ा होकर चल पाएं। संस्थान दिव्यांगजनों के लिए विशिष्ट उपकरण, जो उनके लिए सहायक साबित होते हैं, वह भी निशुल्क देता है।

इन विशिष्ट उपकरणों को तैयार करने के लिए उनके अस्पताल में विश्व स्तरीय मशीन है। नवरात्रि के अवसर पर संस्थान में उन सभी कन्याओं का पूजन किया गया, जिनके ऑपरेशन किए गए। इस कार्यक्रम में राज्य के राजस्व मंत्री रामलाल जाट भी शामिल हुए थे।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट