Move to Jagran APP

राजस्थान के मंत्री राजेंद्र गुढ़ा को अपने ही सरकार के खिलाफ बोलना पड़ा महंगा, सीएम गहलोत ने किया बर्खास्त

कांग्रेस के विधायकों ने मणिपुर में महिलाओं को उपद्रवी भीड़ के निर्वस्त्र कर घुमाने की घटना का विरोध किया। इसी बीच अशोक गहलोत सरकार में ग्रामीण विकास राज्यमंत्री राजेंद्र गुढ़ा ने अपनी ही सरकार को घेरा । गुढ़ा ने कहा कि राजस्थान में इस बात में सच्चाई है कि हम महिलाओं की सुरक्षा में विफल हो गए हैं। हालांकि राजेंद्र सिंह गुढ़ा को गहलोत सरकार ने बर्खास्त कर दिया है।

By Jagran NewsEdited By: Piyush KumarPublished: Fri, 21 Jul 2023 09:33 PM (IST)Updated: Fri, 21 Jul 2023 09:33 PM (IST)
अशोक गहलोत सरकार ने राज्य मंत्री राजेंद्र सिंह गुढ़ा को बर्खास्त किया।(फोटो सोर्स: जागरण)

जागरण संवाददाता,जयपुर। महिला सुरक्षा के मुददे को लेकर शुक्रवार को राजस्थान विधानसभा में हंगामा हुआ। कांग्रेस के विधायकों ने मणिपुर में महिलाओं को उपद्रवी भीड़ के निर्वस्त्र कर घुमाने की घटना का विरोध किया। कांग्रेस के विधायकों ने हाथों में तख्तियां लहराते हुए घटना पर विरोध जताया । इस पर अशोक गहलोत सरकार में ग्रामीण विकास राज्यमंत्री राजेंद्र गुढ़ा ने अपनी ही सरकार को घेरा ।

राजेंद्र गुढ़ा ने अपने ही सरकार की कर दी आलोचना

गुढ़ा ने कहा कि राजस्थान में इस बात में सच्चाई है कि हम महिलाओं की सुरक्षा में विफल हो गए हैं। राजस्थान में जिस तरह से महिलाओं पर अत्याचार बढ़े हैं,ऐसे में हमें मणिपुर के स्थान पर अपने गिरेबां में झांकना चाहिए। गुढ़ा के इतना कहने पर प्रतिपक्ष के नेता राजेंद्र राठौड़ ने कहा,सरकार संविधान के अनुच्छेद 164(2) के तहत सामूहिक जिम्मेदारी से चलती है।

हमारे संविधान में लिखा है कि सरकार का एक मंत्री बोलता है तो इसका मतलब पूरी सरकार बोल रही है। मंत्री ने अपनी ही सरकार की कलाई खोल दी,मैं उनको बधाई दूंगा। लेकिन यह शर्मनाक बात है।

राज्य मंत्री राजेंद्र सिंह गुढ़ा को किया गया बर्खास्त

इसी बीच शुक्रवार शाम को खबर सामने आई कि राज्य मंत्री राजेंद्र सिंह गुढ़ा को अशोक गहलोत सरकार से बर्खास्त कर दिया गया है। राजस्थान राजभवन द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, राजस्थान के राज्यपाल ने राज्य मंत्री राजेंद्र सिंह गुढ़ा को बर्खास्त करने की सीएम अशोक गहलोत की सिफारिश को तत्काल प्रभाव से स्वीकार कर लिया है।

अपराध के आंकड़े प्राथमिक रिपोर्ट में, चालान में नहीं: रामलाल जाट

बता दें कि राजेंद्र सिंह गुढ़ा के बयान पर राजस्व मंत्री रामलाल जाट ने कहा कि अपराध के आंकड़े प्राथमिक रिपोर्ट में है। चालान में नहीं है। सीएम ने अनिवार्य रूप से प्राथमिकी दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। मणिपुर में महिलाओं के साथ खराब बर्ताव का वीडियो आया है, उस पर शर्म आनी चाहिए।

सर्वोच्च न्यायालय तक ने सरकार को फटकार लगाई है। गुढ़ा के बयान पर राठौड़ और संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल के बीच नोक-झोंक हुई। कुछ देर के लिए विधानसभा में हंगामा हुआ। राठौड़ ने कहा,"राज्य में महिलाओं से दुष्कर्म को लेकर बहस करवा लो । इस पर धारीवाल ने कहा,कई बार बहस हो चुकी और आंकड़े पेश किए जा चुके हैं। भाजपा सरकार में जितना महिला अत्याचार हुआ है उतना कभी नहीं हुआ।

सीएम गहलोत का ट्वीट

सीएम गहलोत ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा,मणिपुर में लगातार हिंसा जारी है। हिंसा के कारण वहां के विधार्थियों को यदि कोई परेशानी आए तो संबंधित जिला कलक्टर कार्यालय और फोन नंबर 181 को बता सकते हैं।इनकी सुरक्षा हम सभी राजस्थानियों की जिम्मेदारी है। राजस्थान सरकार इस कठिन परिस्थितियों में मणिपुर के भाई-बहिनों के साथ हैं।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.