जागरण संवाददाता, जयपुर। अपने बड़बोलेपन के लिए हमेशा चर्चा में रहने वाले राजस्थान के सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री भंवरलाल मेघवाल ने गुरुवार को अपने विधानसभा क्षेत्र सुजानगढ़ में एक कार्यक्रम में कहा कि कांग्रेस को अनुसूचित जाति के (दलित) वोट तो भंवरलाल मेघवाल ही दिला सकता है, सीएम अशोक गहलोत के कहने से यह वोट नहीं मिलेंगे।

इस मौके पर भंवरलाल मेघवाल ने कहा कि मैंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से कह दिया है कि मेरी जेब में तो कुछ है नहीं और आप काम कुछ करते नहीं हैं। भंवरलाल मेघवाल इतने में ही नहीं रुके उन्होंने आगे कहा कि मंड़ावा विधानसभा सीट के उपचुनाव में जाने के लिए सीएम अशोक गहलोत का मेरे पास दो बार फोन आया, लेकिन मैंने कह दिया, मैं 12 अक्टूबर से पहले नहीं जाऊंगा, मेरे कई कार्यक्रम पहले से तय हैं।

भंवरलाल मेघवाल बोले, मैंने सीएम से कह दिया कि आप कहेंगे तो चुनाव जिता दूंगा और यदि आप कहेंगे तो हरा दूंगा। भंवरलाल मेघवाल ने सार्वजनिक रूप से मंच से दो बार कह कि मैं अपनी मर्जी का मालिक हूं, सीएम से भी अपना मन होता है तो ही बात करता हूं।

गौरतलब है कि भंवरलाल मेघवाल उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट के खास समर्थक हैं। मेघवाल प्रदेश कांग्रेस कमेटी में उपाध्यक्ष भी हैं। सत्ता में आने के बाद से ही गहलोत और पायलट के बीच चल रही आपसी खींचतान से जूझ रही कांग्रेस में मेघवाल इससे पहले भी कई बार विवादित बयान दे चुके हैं। सीएम गहलोत के सीएम के रूप में पिछले कार्यकाल में भी वे सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री थे, लेकिन विवादों के चलते उन्हे बीच में ही हटा दिया गया था। कांग्रेस के विपक्ष में रहते हुए मेघवाल गहलोत विरोधी खेमे को सक्रिय करते रहे। इसी के चलते वे पायलट के निकट आ गए। 

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप