जागरण संवाददाता, जयपुर। राजस्थान हाईकोर्ट ने गुरुवार को फिल्म मर्दानी 2 पर फैसला सुनाते हुए रोक लगाने से इन्कार कर दिया है। जस्टिस अशोक गौड़ ने फिल्म पर रोक लगाने के साथ ही सेंस बोर्ड और केंद्र सरकार को नोटिस भी जारी किया है। इसमें 16 दिसंबर तक जवाब देने के लिए कहा गया है।

कोटा निवासी तस्लीम अहमद खान द्वारा ये याचिका दायर की गई थी। इसमें फिल्म की रिलीज पर रोक की मांग की गई थी। याचिका में कहा गया है कि फिल्म के जरिए कोटा को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है। फिल्म के ट्रेलर में कोटा में एक सीरियल किलर को दुष्कर्म की घटना को अंजाम देते दिखाया गया है। ट्रेलर की शुरुआत में फिल्म को सच्ची कहानी से प्रेरित बताया गया है। कोटा के लोगों को इसी बात से आपत्ति है।

फिल्म का विरोध कर रहे लोगों का कहना है कि मर्दानी 2 में कोटा की छवि खराब की जा रही है। कोटा में आज तक दुष्कर्म की ऐसी घटना नहीं हुई, जिसे फिल्म में दर्शाया गया है। उनका यह भी कहना है कि जब फिल्म की शूटिंग कोटा में की जा रही थी तो वे बहुत खुश थे। उन्होंने फिल्म यूनिट का स्वागत किया था। लोकसभा अध्यक्ष और कोटा के सांसद ओम बिड़ला ने भी फिल्म पर आपत्ति जताई थी। 

इसलिए हो रहा है विरोध

अभिनेत्री रानी मुखर्जी की फिल्म मर्दानी 2 का ट्रेलर रिलीज होने के साथ ही राजस्थान के कोटा में इसका विरोध शुरू हो गया है। कोटा के लोगों ने आरोप लगाया है कि निर्माता फिल्म के जरिये कोटा की छवि खराब कर रहे हैं। फिल्म में कोटा से जुड़े आपत्तिजनक दृश्य हटवाने की मांग को लेकर गत शुक्रवार को स्थानीय लोगों ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मुलाकात की। बिरला कोटा से सांसद हैं। विरोध करने वालों में कांग्रेस और भाजपा दोनों ही दलों के स्थानीय नेताओं के साथ ही आम लोग भी शामिल हैं।

यह भी पढ़ेंः फिल्म 'मर्दानी 2' का विरोध शुरू, कोटा के लोगों ने जताई आपत्ति

 

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस