जयपुर, राज्य ब्यूरो। राजस्थान में विधायकों की खरीद फरोख्त के मामले में राजस्थान पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप द्वारा जांच बंद किये जाने के बाद अब राजस्थान के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने अपनी जांच तेज की है। इस मामले में एसओजी द्वारा गिरफ्तार किए गए संजय जैन को एसीबी ने चार दिन की रिमांड पर लिया था। रिमांड पर लेने के साथ ही संजय के जयपुर और बीकानेर समेत अन्य जगहों पर बने मकानों और परिवार के नजदीकी सदस्यों के मकानों पर छापेमारी की जा रही है।  

 गौरतलब है कि विधायकों की खरीद फरोख्त के मामले में राजस्थान की दो बड़ी जांच एजेंसियां एसओजी और एसीबी एक महीने से भी ज्यादा समय से जांच कर रही थी । सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी की ओर से दी गई इन दोनो शिकायतों पर कार्रवाई भी शुरु कर दी गई थी। एसओजी ने करीब एक महीने पहले भरत मालानी और अशोक सिंह को भी गिरफ्तार किया था। दो बार पूछताछ की लंबी कार्रवाई के बाद उनको जेल भेज दिया गया था। उसके बाद ऑडियो टेप कांड का मामला सामने आया। इनमें दो से तीन विधायकों और मंत्रियों के नाम कथित तौर पर सामने आए थे। इसी मामले में संजय जैन को भी गिरफ्तार किया गया था। अब एसओजी ने अपनी जांच बंद कर दी है। अब संजय जैन का मामला एसीबी के पास है।

 अब संजय जैन एसीबी का आरोपी रह गया है और उसे रिमांड पर एसीबी ने ले लिया है। एसीबी ने इस केस में पहले ही दो विधायकों को नोटिस भेज दिया है। लेकिन नोटिस की मियाद दो बार पूरी होने के बाद भी विधायकों से किसी तरह का संपर्क नहीं हो सका है। एसीबी अफसरों का कहना है संजय जैन से हर कानूनी तरीके से पूछताछ की जा रही है ताकि इस केस को आगे बढाया जा सके। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021