जयपुर, जागरण संवाददाता। आयकर विभाग ने बृहस्पतिवार को राजस्थान के श्रीगंगानगर व जयपुर में 33 ठिकानों पर छापेमारी की है। वहीं, उदयपुर में मिराज समूह के ठिकानों पर भी छापेमारी कई गई। श्रीगंगानगर के कांग्रेस नेता अशोक चांडक जयपुर के बिल्डर रिद्ध्रि सिद्धी समूह पर छापेमारी की कार्रवाई काफी गुप्त रखी गई। सुबह छह बजे आयकर विभाग के 250 से अधिक अधिकारी और कर्मचारी ठिकानों पर एक साथ पहुंचे और छापे की कार्रवाई शुरू की। अधिकारियों ने इस बारे में बोलने से इन्कार किया है। कांग्रेस नेता चांडक शराब कारोबारी पोंटी चड्ढ़ा के साथ व्यापार में सहयोगी है। चांडक के शराब, मेडिकल और जमीनों सहित कई कारोबार हैं। चांडक की आय और टैक्स रिटर्न में दिखाई गई आमदनी में अंतर है। प्रारंभिक जांच में गड़बड़ी पाए जाने के बाद छापेमारी की गई है। चांडक की पत्नी करुण श्रीगंगानगर नगर परिषद की सभापति हैं। वहीं, सिद्धी समूह के मुकेश शाह जयपुर सहित कई शहरों में माल और फ्लैट्स का निर्माण करते हैं। सूत्रों के अनुसार, चांडक और शाह के मुंबई के कारोबारी से संबंध होने की बात सामने आई है। मुंबई आयकर विभाग की टीम से मिले इनपुट के आधार पर ही यहां छापेमारी की गई है। 

मिराज समूह के ठिकानों पर छापा, आठ सौ करोड़ की टैक्स चोरी

उदयपुर संवाद सूत्र के मुताबिक, डायरेक्टरेट जनरल आफ जीएसटी इंटेलीजेंस (डीजीजीआइ) की जयपुर टीम ने मिराज समूह के ठिकानों पर छापेमारी की कार्रवाई की है। डीजीजीआइ की इस कार्रवाई से समूह से जुड़ी अन्य कंपनियों में हड़कंप मच गया है। डीजीजीआइ टीम ने समूह के कार्यालयों से विभिन्न दस्तावेज बरामद किए हैं। दस्तावेजों की जांच कर जीएसटी चोरी का पता लगाया जा रहा है। आशंका जताई जा रही है कि करोड़ों की टैक्स चोरी का खुलासा हो सकता है। हालांकि अभी तक इस बारे में डीजीजीआइ ने आठ सौ करोड़ रुपये की टैक्स चोरी की जानकारी साझा की है। डीजीजीआइ की टीम ने मिराज के उत्पादों की पैकेजिंग से जुड़ी कंपनियों पर भी कार्रवाई की है। डीजीजीआइ की टीम ने मार्च, 2020 में भी मिराज समूह के उत्पादों के निर्माण और वितरण पर पैनी नजर रखे हुए थी। डीजीजीआइ ने नाथद्वारा के अलावा जयपुर, हरिद्वार, अहमदाबाद, सूरत तथा नोएडा स्थित आफिसों में कार्रवाई की थी। इसी दौरान टैक्स चोरी डमी बिलिंग के जरिए करना बताया गया है।

दो निदेशक गिरफ्तार

डीजीजीआइ के सूत्रों ने बताया कि कार्रवाई के दौरान मिराज ग्रुप से जुड़ी पैकेजिंग मैटेरियल सप्लाई करने वाली फर्मों के दो निदेशकों को गिरफ्तार किया है। इस मामले में मिराज समूह से जुड़े प्रबंधकों से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन किसी ने इस संबंध में जानकारी साझा करने से इन्कार कर दिया। डीजीजीआइ और मिराज समूह के प्रबंधकों ने यह नहीं बताया कि गिरफ्तार निदेशकों में कौन-कौन शामिल हैं।

Edited By: Sachin Kumar Mishra