नरेन्द्र शर्मा, जयपुर। कोरोना वायरस से लड़ने के लिए राजस्थान के दो बच्चों ने अपनी गुल्लक तोड़कर 16 हजार 104 रूपए सरकार को दिए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अपील पर एक तरफ जहां बड़े-बड़े दानदाता आगे आ रहे हैं,वहीं बच्चे भी अपना योगदान दे रहें है । इसी के तहत राजस्थान के आिदवासी जिले बांसवाड़ा में 5वीं क्लास में पढ़ने वाले एक बच्चे ने अपने जन्मदिन पर पॉकेट मनी से कुल 11 हजार रुपये रिलीफ फंड में किए हैं। बांसवाड़ा के कंधार वाडी इलाके में रहने वाले अंशुल के पिता कल्पेश पवार टेलर हैं । परिवार चलाने के लिए इसके साथ ही वह पार्ट टाइम इंश्योरेंस एजेंट का काम भी करते हैं।

सोमवार को अंशुल का 11वां जन्मदिन था। वह अपनी पॉकेट मनी लंबे वक्त से गुल्लक में जमा कर रहा था। जन्मदिन पर उसने गुल्लक तोड़े और पैसे गिने,ये कुल 11 हजार रुपये हुए । इस पर अंशुल ने ये पैसे कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए देने का फैसला किया। अपने पिता कल्पेश और दादा हरिलाल के साथ अंशुल जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचा । उसने यह रकम जिला कलेक्टर कैलाश बैरवा को सौंपी ।

कलेक्टर ने अंशुल की प्रशंसा करते हुए उसे अपने साथ बिठाकर नाश्ता कराया । अंशुल 5वीं कक्षा का छात्र है । उधर जोधपुर जिले में 6 साल के एक बच्चे ने एक साल में जमा 5,104 रूपए सीएम कोविड-19 फंड में जमा कराए । जोधपुर जिले के खोखरिया गांव निवासी 6 साल के अरविंद विश्नोई ने टीवी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील सुनी थी । पीएम की अपील सुनने के बाद उसने तय किया वह वह अपने गुल्लक में जमा रकम कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए देगा । उसने यह बात अपने पिता अशोक विश्नोई को बताई । बेटे की बात को समझते हुए अशोक विश्नोई अरविंद को साथ लेकर जिला कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित के पास पहुंचे और उन्हे 5,104 रूपए पीड़ितों की मदद के लिए दिए ।

Posted By: Vijay Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस