उदयपुर, संवाद सूत्र। देश भर में चर्चित कन्हैयालाल हत्याकांड की जांच पूरी करने के लिए एनआईए ने और समय मांगा हैं। एनआईए ने अदालत को बताया कि कुछ और आरोपितों की तलाश की जा रही हैं और इसके लिए उन्हें समय चाहिए। जिसके लिए एनआईए ने और 90 दिन मांगे हैं। जयपुर की एनआईए कोर्ट में कड़ी सुरक्षा के बीच सभी नौ आरोपितों को पेश किया। अदालत ने उनकी न्यायिक अभिरक्षा की अवधि को 21 अक्टूबर तक बढ़ा दी।

हत्यारोपितों का केस लड़ने को कोई वकील तैयार नहीं

कन्हैयालाल की हत्या के आरोपितों की ओर से राजस्थान का एक भी वकील तैयार नहीं है। जयपुर सहित प्रदेश के ज्यादातर जिला बार एसोसिएशन से जुड़े वकीलों ने उनका केस लेने से इंकार कर दिया। इसके चलते तीन महीने बाद भी उनकी ओर से कोई वकील केस लड़ने को तैयार नहीं। यही कारण रहा कि शुक्रवार को हत्यारोपितों की ओर से किसी वकील ने वकालातनामा पेश नहीं किया।

उल्लेखनीय है कि इसी साल 28 जून को मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद ने दिनदहाड़े कन्हैयालाल की उसकी टेलर की दुकान पर जाकर बेरहमी से गला काटकर हत्या कर दी। जिसका लाइव वीडियो भी उन्होंने इंटरनेट मीडिया पर वायरल किया और बाद में एक और वीडियो जारी कर उसमें हत्या की जिम्मेदारी ली। पुलिस ने कुछ घंटों में राजसमंद जिले के दोनों को गिरफ्तार कर लिया, जब वह अजमेर जाने वाले थे।

इस मामले की जांच एनआईए ने अपने हाथों में ले रखी है। भाजपा की प्रवक्ता रही नुपूर शर्मा के बयान को कन्हैयालाल के बेटे के लाइक करने के बाद मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद ने सर कलम करने की धमकी दी थी। इस मामले में एनआईए अब तक नौ आरोपितों को गिरफ्तार कर चुकी है, जो अजमेर की हाई सिक्योरिटी जेल में हैं।

Edited By: Ashisha Singh Rajput