उदयपुर, संवाद सूत्र। देश भर में चर्चित रहे कन्हैयालाल हत्याकांड के आरोपित मोहम्मद रियाज को अब पत्नी और परिवार की याद सता रही है। एनआईए के सामने वह कई बार गिड़गिड़ाया लेकिन उससे मिलने उसकी पत्नी ही नहीं, बल्कि एक भी रिश्तेदार मिलने नहीं आया। इसी टीस के साथ आरोपित रियाज एक बार फिर अजमेर की हाई सिक्योरिटी जेल पहुंच गया।

एनआईए कन्हैयालाल हत्याकांड की जांच के लिए आरोपित मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद को गिरफ्तारी के तीन महीने बाद उदयपुर लेकर आई थी और चार दिन उसे यहां भूपालपुरा थाने में रखा गया था।

एनआईए अधिकारी चार दिन की हिरासत के दौरान उन्हें उन सभी स्थानों पर ले गई, जहां उन्होंने हत्याकांड को अंजाम दिया और वारदात के दौरान ही नहीं, बल्कि पहले और बाद में वीडियो बनाकर इंटरनेट मीडिया पर वारयल किए थे।

हत्या से पहले रियाज बोला था कि भूलना होगा परिवार

कन्हैयालाल हत्याकांड के मुख्य आरोपितों ने हत्याकांड के लाइव वीडियो सहित तीन वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल किए थे। इनमें से एक वारदात से पहले बनाया था, जबकि तीसरा और अंतिम वीडियो वारदात के बाद बनाया था। पहले वीडियो में आरोपित रियाज ने कहा था कि वह जो कदम उठाने जा रहे हैं, उसके लिए अपना परिवार को भुलाना होगा, किन्तु यही बात उस पर भारी पड़ रही है। तीन महीने के दौरान उसका एक भी दिन ऐसा नहीं रहा जब उसे पत्नी और परिवार की याद नहीं सताई।

मिलने ना पत्नी आई और ना ही कोई रिश्तेदार

उदयपुर में चार दिन के दौरान रियाज एनआईए अधिकारियों से लगातार यह पूछता रहा कि उससे कोई मिलने आया, वह अपनी पत्नी से मिलने के लिए कई बार गिड़गिड़ाया। हालांकि उससे मिलने ना तो उसकी पत्नी आई और ना ही कोई रिश्तेदार।

हालांकि एनआईए अधिकारियों का कहना था कि आरोपितों से मिलने पर कोई पाबंदी नहीं है। केवल उन्हीं आरोपितों से नहीं मिलवाया जा सकता, जिन्हें बापर्दा रखा गया है।

बता दें कन्हैयालाल हत्याकांड के आरोपित मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद को एनआईए घटनास्थल के अलावा सुखेर क्षेत्र के उस उद्योग लेकर पहुंची जहां बैठकर उन्होंने वीडियो वायरल किए और हत्या में उपयोग किया छुरा छिपाया था। एनआईए ने राजसमंद जिले के भीम कस्बे के जंगल से एक बैग भी बरामद किया, जो फरारी के दौरान आरोपितो ने फैंका था।

आरोपित रियाज और गौस को मिलवाया लेकिन बात करना तो दूर, नजरें तक नहीं मिलाईं

एनआईए अधिकारियों ने बताया कि कन्हैयालाल हत्याकांड के आरोपितों मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद को लगभग तीन महीने बाद यहां मिलने का मौका मिला लेकिन दोनों ने एक-दूसरे से बात नहीं की। दोनों ने नजरें तक नहीं मिलाई और पूरी तरह खामोश रहे।

उल्लेखनीय है कि इसी साल 28 जून को मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद ने कन्हैयालाल की गला काटकर हत्या कर दी थी। जिसके लाइव मर्डर का ना केवल उन्होंने वीडियो बनाया, बल्कि उसे वायरल भी किया। यह मामला देश भर में चर्चित रहा। एनआईए इस मामले में अब तक नौ आरोपितों को गिरफ्तार कर चुकी है, जो सभी अजमेर की हाई सिक्योरिटी जेल में हैं।

Edited By: Priti Jha