जयपुर, [जागरण संवाददाता]। पाकिस्तान सीमा के निकट राजस्थान का रेगीस्तान इन दिनों गोला-बारूद और टैंकों से थर्रा रहा है । भारतीय सेना की दक्षिणी कमान के 40 हजार जवान जैसलमेर के रेगीस्तान में युद्धाभ्यास में जुटे हैं । कडाके की ठंड के बीच चल रहे इस युद्धाभ्यास को "हमेंशा विजयी " नाम दिया गया है । जवान दुश्मन के क्षेत्र  में त्वरित गति के साथ गहराई तक जबरदस्त हमला बोलने की क्षमता का परीक्षण करने के साथ ही परमाणु और रासायनिक हमलों से निपटने का भी अभ्यास कर रहे हैं ।

सेना प्रवक्ता के अनुसार इस युद्धाभ्यास में प्रारंभिक प्रशिक्षण के बाद एकीकृत रूप से टैंक,बख्तरबंद गाड़ियां एवं वायुसेना के साथ पूरा तालमेल बिठाते हुए सैनिक शामिल हो रहे हैं । इस युद्धाभ्यास में सर्विलांस नेटवर्क की मदद से सटीक हमले और संयुक्त संचालन पर आधारित रणनीतिक एवं सामरिक उपकरणों का इस्तेमाल किया जा रहा है । इस युद्धाभ्यास का मकसद एकीकृत रूप से दुश्मनके इलाकों की गहराई में जाकर सशस्त्र बलों की क्षमता का मूल्यांकन करना है । 

 

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस